ईरान ने दी बीबीसी पत्रकारों को धमकी

 मंगलवार, 29 जनवरी, 2013 को 08:00 IST तक के समाचार
बीबीसी फ़ारसी सेवा

पत्रकारों की गिरफ्तारी को मीडिया पर नियंत्रण बढ़ाने के उपायों के तौर पर देखा जा रहा है

ईरान में फ़ारसी भाषा के विदेशी मीडिया संगठनों के साथ सहयोग करने के आरोप में कम से कम तेरह पत्रकारों को हिरासत में लिया गया है.

इनमें सात पुरुष और छह महिला पत्रकार शामिल हैं जो अलग-अलग मीडिया संगठनों के लिए काम करते हैं. ख़बरों में कहा गया है कि उन्हें रविवार को हिरासत में लिया गया था.

ईरान बीबीसी की फ़ारसी सेवा और अमरीका की वॉयस ऑफ अमरीका को शत्रु संगठन के तौर पर देखता है.

लेकिन ईरान के संस्कृति मंत्री का कहना है कि इन लोगों को पत्रकार होने की वजह से नहीं, बल्कि सुरक्षा संबंधी आरोपों की वजह से हिरासत में लिया गया है.

धमकी और झूठे आरोप

बीते हफ्ते, बीबीसी ने ईरान के अधिकारियों पर आरोप लगाया था कि वह लंदन स्थित बीबीसी फ़ारसी सेवा के कर्मचारियों को धमका रहे हैं.

ईरान में रहने वाले बीबीसी पत्रकारों के परिवार के सदस्यों को खुफिया सेवाओं के अधिकारी पूछताछ के लिए बुलाते रहे हैं.

इतना ही नहीं, पत्रकारों के नाम से फ़र्ज़ी वेबसाइट और फेसबुक एकाउंट बनाए गए हैं और उन पर यौन दुर्व्यवहार समेत कई तरह के अभियोग लगाए जाते रहे हैं.

वहीं ईरान का कहना है कि बीबीसी, राष्ट्रपति मेहमूद अहमदीनेजाद के साल 2009 में विवादित दोबारा चुनाव के बाद अशांति को बढ़ावा देता रहा है.

मीडिया पर काबू की कोशिश

बीबीसी की फ़ारसी सेवा उन लोगों के वीडियो और साक्षात्कार प्रसारित करती रही है जो सुरक्षाबलों के हाथों हुई मौतों और मनमाने तरीके से गिरफ़्तारी का दास्तां बयां करते हैं.

ईरान ने अपने नागरिकों को चेतावनी दी है कि यदि वे बीबीसी की फ़ारसी सेवा या वॉयस ऑफ अमरीका के साथ काम करते पाए गए, तो उन पर कड़ा जुर्माना लगाया जाएगा.

संवाददाताओं का कहना है कि देश में इस साल जून में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं और इन गिरफ्तारियों को मीडिया पर नियंत्रण बढ़ाने के उपायों के तौर पर देखा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.