सीरिया पर 'इसराइली विमानों का हमला'

इसराइल जेट
Image caption इसराइल को आशंका है कि सीरिया के हथियार हिज़बुल्लाह चरमपंथी के हाथों में पड़ सकते हैं.

सीरिया की सेना ने पुष्टि की है कि इसराइल के विमानों ने उसके क्षेत्र में हवाई हमला किया है. लेकिन सीरिया ने इस बात से इनकार किया है कि इस हमले में लेबनान जा रहीं हथियारों से भरी हुई लॉरियाँ भी हमले का शिकार हुईं.

एक वक्तव्य में कहा गया है कि इस हमले का निशाना राजधानी दमिश्क के उत्तरपश्चिम में स्थित एक सैन्य अनुसंधान केंद्र था.

वक्तव्य में ये भी कहा गया है कि हमले में दो लोग मारे गए और पांच अन्य घायल हो गए.

वहीं लेबनान के सुरक्षा सूत्रों, पश्चिमी दूतों और सीरियाई विद्रोहियों का कहना है लेबनान सीमा के पास एक हथियारों का ज़खीरा भी हमले से प्रभावित हुआ.

ये हमला ऐसे समय पर हुआ है जब इसराइल ने आशंका जताई है कि सीरियाई मिसाइलें और रसायनिक हथियार लेबनान के हिज़बुल्लाह जैसे चरमपंथियों के हाथों में पड़ सकते हैं.

आशंका

बीबीसी के मध्यपूर्व के संवाददाता वायर डेविस का कहना है कि इनमें से किसी भी ख़बर की पुष्टि नहीं हो पाई है हालांकि कुछ राजनयिकों और सैन्य सूत्रों का कहना है कि सीरिया में हाल की अस्थिरता को देखते हुए उन्हें इसरायल के कदम पर हैरानी नहीं होगी.

इसरायल और अमरीका ने इस हादसे पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है.

उधर लेबनान की सेना और आंतरिक सुरक्षाबलों ने भी ख़बरों की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है. लेकिन इनका कहना है कि पिछले सप्ताह और ख़ासकर पिछले कुछ घंटों में इसराइली लड़ाकू विमानों ने लेबनान के ऊपर गतिविधि बढ़ा दी है.

सीरिया के आधिकारिक मीडिया में आए सेना के वक्तव्य में कहा गया है, "आज तड़के इसराइली लड़ाकू विमानों ने हमारी वायुसीमा का उल्लंघन किया और एक वैज्ञानिक अनुसंधान केंद्र पर सीधे हमला किया जिसमें हमारी प्रतिरोधक क्षमता और आत्मरक्षा से संबंधित काम होता है."

वक्तव्य में ये भी कहा गया है कि राजधानी दमिश्क के उत्तरपश्चिम में जमराया में स्थित इस केंद्र, इसके बगल में एक इमारत और कार पार्क हमले में क्षतिग्रस्त हुए हैं.

उल्लंघन

Image caption संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक सीरिया में 2011 से हुई हिंसा में अब तक 60,000 लोग मारे जा चुके हैं

लेकिन इस वक्तव्य में इस बात से ख़ासतौर से इनकार किया गया है कि हमले में हथियारों का ज़खीरा भी क्षतिग्रस्त हुआ है.

इस हमले से घंटों पहले बेनाम लेबनानी सुरक्षा सूत्रों ने ख़बर दी थी कि मिसाइलों से लदी लेबनान सीमा की ओर जा रही लॉरियों पर इसराइली लड़ाकू विमानों ने हमला किया था.

एसोसिएटिड प्रैस ने एक अमरीकी अधिकारी के हवाले से बताया है कि इन गाड़ियों में रूसी एसए 17 एंटी -एयरक्राफ़्ट मिसाइले थीं.

संवाददाताओं का कहना है कि इसराइल को डर है कि लेबनानी शिया चरमपंथी गुट हिज़बुल्लाह के हाथों टैंक रोधी और मिसाइल रोधी मिसाइलें लग सकती हैं जिससे गुट की इसराइली हवाई हमलों का जवाब देने की क्षमता बढ़ जाएगी.

लेकिन संवाददाता ये भी कहते हैं कि सीरियाई तरफ़ से किसी भी हमले से बड़ा राजनयिक संकट पैदा हो सकता है क्योंकि ईरान ने कहा है कि वो इसराइल द्वारा सीरिया पर किसी भी हमले को ख़ुद पर हमला समझेगा.

इस बीच इसराइल और अमरीका ने चिंता व्यक्त की है कि सीरिया के तथाकथित रसायनिक हथियारों के ज़खीरों पर चरमपंथी गुट कब्ज़ा कर सकते हैं हालांकि ऐसा कोई सबूत नहीं है कि इन गाड़ियों में ऐसे कोई हथियार लदे थे.

संबंधित समाचार