सड़क दुर्घटनाओं पर चीनी अखबारों की चिंता

  • 4 फरवरी 2013
चीन दुर्घटना
Image caption पिछले दिनों एक ट्रक में हुए विफोट से पुल टूट गया था.

हाल के दिनों में चीन में बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं को लेकर चीनी मीडिया काफी चिंतित और निराश है.

पिछले हफ्ते कई सड़क दुर्घटनाओं में वहां कम से कम 58 लोगों की मौत हो चुकी है. ये दुर्घटनाएं ऐसे समय पर हो रही हैं जबकि चीन में नए साल के महोत्सव शुरू होने वाले हैं जिनमें बड़े पैमाने पर लोगों का आना-जाना होता है.

शनिवार को गुइझू में यात्रियों से खचाखच भरी एक बस के गड्ढे में गिर जाने से 12 लोगों की मौत हो गई. ग्वांगझी में भी एक ऐसे ही हादसे में कम से कम सात लोगों की मौत हो गई.

शुक्रवार को हेनान में विस्फोटकों से भरे एक ट्रक में विस्फोट होने से पुल टूट गया जिससे कई वाहन गड्ढे में गिर गए. वहीं गान्सू में एक बस के गड्ढे में गिरने और फिर उसमें लगी आग से 18 लोगों की मौत हो गई.

बम निरोधक टीम और रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि हेनान पुल पर जिस ट्रक में विस्फोट हुआ उसमें जरूरत से ज्यादा विस्फोटक लदा हुआ था जो कि एक मकान को नष्ट करने के लिए लाया जा रहा था.

सुरक्षा मानकों पर सवाल

चीन के अखबारों ग्लोबल टाइम्स और बीजिंग न्यूज ने इन दुर्घटनाओं के लिए सुरक्षा मानकों, शराब पीकर गाड़ी चलाने, सड़कों की खराब स्थिति को ज़िम्मेदार ठहराया है.

अखबारों ने जरूरत से ज्यादा विस्फोटक लाद कर ले जाने वाले ट्रक के मालिक पर भारी जुर्माना लगाने की भी मांग की है.

ग्लोबल टाइम्स की टिप्पणी है, “चीनी नव वर्ष पर यात्राओं का मौसम होता है और ऐसे में सुरक्षा सुनिश्चित करने की बात महज एक नारा भर नहीं होना चाहिए.”

कुछ अखबार मीडिया के रवैये पर भी नाखुश हैं, जिनमें दुर्घटना की बजाय वहां गए नेताओं और उनकी गतिविधियों को ज्यादा तवज्जो देते हैं.

बीजिंग न्यूज लिखता है कि इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों का आरोप है कि हेनान पुल दुर्घटना के बाद वहां पहुंचे एक अधिकारी के रोने-धोने की घटना को इतना ज्यादा बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया गया कि बचाव कार्य और दुर्घटना की गंभीरता पीछे चली गई.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार