कोलंबो हवाईअड्डे पर रोका गया ब्रितानी पर्यटक

श्रीलंका के कैंडी शहर के एक मंदिर में भगवान बुद्ध की प्रतिमा
Image caption श्रीलंका का बहुसंख्यक सिंहला समुदाय बौद्ध धर्म मानता है.

ख़बरों के मुताबिक़ श्रीलंका के कोलंबो हवाईअड्डे पर एक ब्रितानी पर्यटक को इसलिए रोक दिया गया क्योंकि उसने कथित तौर पर बौद्ध धर्म के प्रति सम्मान नहीं दिखाया.

एक आप्रवासन अधिकारी ने एक स्थानीय समाचरपत्र को बताया कि जब पर्यटक से उसकी बांह पर गुदे हुए बुद्ध के टैटू के बारे में पूछा गया, तो उसने "बेहद असम्मानजनक" तरह से जवाब दिया था.

इस अधिकारी का ये भी कहना था कि ब्रितानी पर्यटक के ऐसे विचार श्रीलंका में 'उसकी ही सुरक्षा के लिए ख़तरा' बन सकते थे.

कड़ा रवैया

श्रीलंका का बहुसंख्यक समुदाय, सिंहला, बौद्ध धर्म मानता है और बौद्ध धर्म के प्रति किसी भी तरह के कथित अपमान पर अधिकारी कड़ा रवैया अपनाते हैं.

पिछले साल फ़्रांस के तीन पर्यटकों को जेल की सज़ा सुनाई गई थी जिस पर हालाकि अमल नहीं हुआ था. इन पर्यटकों पर आरोप था कि उन्होंने ऐसी तस्वीरें खींची थी जिनमें लग रहा था कि वे बुद्ध की प्रतिमा को चूम रहे हैं.

वर्ष 2010 में अमरीकी पॉप गायक एकोन को उनके एक म्यूज़िक वीडियो के विरोध के कारण श्रीलंकाई वीज़ा नहीं दिया गया. इस वीडियो में बुद्ध की प्रतिमा के सामने कम कपड़ों में नाचती हुई लड़कियां दिखाई गई थीं.

कोलंबो के भंडारनाइके अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के एक अधिकारी ने एएफ़पी समाचार एजेंसी को बताया कि ब्रितानी पर्यटक को रोकने वाली शुक्रवार की घटना सही है.

श्रीलंका में वर्ष 2012 में एक लाख ब्रितानी पर्यटक घूमने गए. भारत के बाद श्रीलंका का दूसरा सबसे बड़ा कारोबारी सहयोगी ब्रिटेन है.

संबंधित समाचार