सोशल मीडिया ने दिलाई बलात्कारियों को सज़ा

  • 18 मार्च 2013
ओहायो के हाईस्कूल छात्र ट्रेंट मेय्स और म'लिक रिचमंड
Image caption ट्रेंट मेय्स और म'लिक रिचमेंड स्थानीय हाईस्कूल की फ़ुटबॉल टीम के लोकप्रिय सदस्य हैं.

अमरीकी राज्य ओहायो में हाई स्कूल में पढ़ने वाले दो फ़ुटबॉल खिलाड़ियों को एक 16-वर्षीय लड़की के बलात्कार का दोषी पाया गया है.

16-वर्षीय ट्रेंट मेय्स और 17-वर्षीय म'लिक रिचमंड ने स्ट्यूबेनविल शहर में एक पार्टी के बाद किशोरी के साथ दुष्कर्म किया.

अदालत में फ़ैसला सुनाए जाने के दौरान दोनों छात्र रो पड़े.

बलात्कार की घटना के दूसरे दिन मोबाइल एसएमएस, ऑनलाइन वीडियो और सोशल मीडिया में ये मुद्दा ज़ोर-शोर से उठाया गया जिससे ये राष्ट्रीय सुर्खियों में आ गया.

दोनों छात्रों को कम से कम एक साल के लिए बाल कारावास की सज़ा सुनाई गई है. ट्रेंट मेय्स को नग्न पीड़िता की तस्वीरें खींचने के लिए एक और साल की सज़ा हुई है और जज ने कहा कि दोंनो खिलाड़ियों को शायद 21 वर्ष का होने तक कारावास काटना पड़ सके.

सोशल मीडिया की ताक़त

ये मामला अमरीका के राष्ट्रीय पटल पर तब सामने आया जब कुछ ब्लॉगरों और इंटरनेट साइटों की हैकिंग करने वाले एनोनिमस नाम के एक समूह ने इसकी ओर लोगों का ध्यान खींचा.

इनमें से कुछ लोगों का दावा था कि पुलिस समेत स्थानीय समुदाय ने आरोपियों को बचाने के लिए अपराध छुपाने की कोशिश की क्योंकि दोंनो छात्र स्थानीय हाईस्कूल फ़ुटबॉल टीम के लोकप्रिय सदस्य थे.

वॉशिंगटन में मौजूद बीबीसी संवाददाता मैट वैल्स कहते हैं कि इस मामले ने किशोरावस्था में शराब की लत की ओर ध्यान खींचा है और अदालत में सोशल मीडिया के सबूत के तौर पर बढ़ते इस्तेमाल को भी चिन्हित किया है.

Image caption मामले को दबाने के आरोपों के बीच ऑनलाइन कार्यकर्ताओं ने इस मामले को सोशल मीडिया पर उछाला जिससे ये सुर्खियों में आया.

पिछले वर्ष अगस्त में ट्रेंट मेय्स और म'लिक रिचमंड ने एक पार्टी के बाद एक 16-वर्षीय किशोरी के साथ निकले और पहले कार और फिर एक दोस्त के घर पर उसका यौन शोषण किया.

पीड़िता इस क़दर शराब के नशे में धुत थी कि उसे अपने साथ हुए दुष्कर्म के बारे में कुछ याद नहीं था लेकिन वकीलों का कहना था कि उसे "खिलौने की तरह इस्तेमाल" किया गया.

दरार

हालांकि किसी ने इस घटना की शिकायत नहीं की और इसका कोई सबूत नहीं था लेकिन घटना के बारे जानकारी उन टेक्सट संदेशों, ट्वीट्स और अपमानजनक तस्वीरों के ज़रिए सामने आई जिन्हें दुष्कर्म करने वाले दोंनो किशोरों और पार्टी में मौजूद अन्य लोगों ने इंटरनेट पर डाला था.

इस मामले ने स्ट्यूबेनविल शहर में दरार पैदा कर दी. ये एक छोटा और आर्थिक तौर पर कमज़ोर शहर है जहां के निवासियों को स्थानीय हाई स्कूल की "बिग रेड" नाम की फ़ुटबॉल टीम पर बहुत गर्व है.

अदालत में गवाही देने वालों में से कुछ आरोपी किशोरों के दोस्त थे. इन लोगों ने ख़ुद पर मुक़दमा न चलने की गारंटी की एवज़ में गवाही दी.

उधर, अधिकारियों ने कहा है कि वे उन आरोपों की जांच करेंगे कि अन्य खिलाड़ियों ने घटना का वीडियो बनाया और उस लड़की को बचाने के लिए कुछ नहीं किया.

संबंधित समाचार