'दक्षिण कोरिया के साथ 'युद्ध' जैसे हालात'

नॉर्थ कोरिया
Image caption उत्तर कोरिया दक्षिण कोरिया और अमरीका के वार्षिक सैन्य अभ्यास से नाराज़ है

उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया और अमरीका के ख़िलाफ़ भड़काऊ बयान देते हुए कहा है कि वो इन देशों के साथ युद्ध जैसी स्थिति की ओर बढ़ रहा है.

उत्तर कोरिया द्वारा जारी इस वक्तव्य में ये भी कहा गया है कि अगर उनके खिलाफ़ कोई भड़काऊ कदम उठाए जाते हैं तो वे इसका मुंहतोड़ जवाब देंगे.

फरवरी महीने में तीसरी बार परमाणु परीक्षण करने के बाद उत्तर कोरिया ने तक़रीबन हर दिन हमला करने की धमकी दी है.

हालांकि ऐसा कम ही लोग मानते हैं कि उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच युद्ध होने की संभावना है क्योंकि दोनों देश तक़नीकी रुप से 1953 से युद्ध की कगार पर हैं और दोनों के बीच किसी तरह के शांति समझौते पर भी बात नहीं हुई है.

कोरिया यु्द्ध के बाद दोनों देशों के बीच युद्धविराम की सहमति कभी भी पूरी तरह से युद्ध संधि में तब्दील नहीं हो पाई.

गंभीर धमकी

उत्तर कोरिया ने 12 फरवरी को अपना परमाणु परीक्षण किया था जिसके बाद उसके खिलाफ़ नए सिरे से प्रतिबंध लगा दिए गए थे.

इस बीच दक्षिण कोरिया और अमरीका के संयुक्त वार्षिक सैन्य अभ्यास ने उत्तर कोरिया को नाराज़ कर दिया था.

सियोल स्थित बीबीसी संवाददाता लूसी विलियमसन के मुताबिक कई विश्लेषक मानते हैं कि अगर उत्तर कोरिया-दक्षिण कोरिया और अमरीका के साथ लड़ाई करता है तो ये उसके लिए काफी घातक सिद्ध होगा.

बीबीसी संवाददाता के अनुसार जिस तरह से दोनों तरफ से लगातार भड़काऊ बयानबाज़ी चल रही है, उससे इक्का-दुक्का संघर्ष की घटना होने की पूरी संभावना है.

शनिवार को उत्तर कोरिया द्वारा जारी किए एक आधिकारिक वक्तव्य में कहा गया, "कई विश्लेषक मानते हैं कि अगर उत्तर कोरिया- दक्षिण कोरिया और अमरीका के साथ लड़ाई करता है तो ये उसके लिए काफी घातक सिद्ध होगा."

वॉशिंगटन में राष्ट्रीय सिक्योरिटी काउंसिल की प्रवक्ता केटलिन हेडन के अनुसार, ''अमरीका ने ऐसे कई रिपोर्ट देखे हैं जिसमें उत्तर कोरिया ने माहौल बिगाड़ने वाली बयानबाजी़ की है.''

हेडन आगे कहती हैं, ''हम इन धमकियों को काफी गंभीरता से ले रहे हैं और दक्षिण कोरियाई साथियों से संपर्क में हैं.''

उत्तर कोरिया ने हाल के दिनों में कई बार अमरीका और दक्षिण कोरिया को धमकी दी है. जिसमें अमरीका के खिलाफ़ परमाणु हमला करने और कोरिया युद्ध के दौरान किए गए युद्ध विराम को खत्म करना भी शामिल है.

'सबक'

गुरुवार को उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया में छपी खबर के अनुसार उनके नेता किम जोंग उन ने कहा है कि, अब समय आ गया है जब हमें अपने अमरीकी साम्राज्यवादियों को सबक सिखाना होगा.

Image caption उत्तर कोरिया की विकसित मिसाइलें अमरीका के अलास्का तक हमला करने में सक्षम हैं

किम जोंग उन ने दक्षिण कोरिया के साथ उनके सैन्य अभ्यास के दौरान यूएस-बी-2 बमवर्षक विमान के इस्तेमाल को एक लापरवाह कदम बताया है. किम जोंग के अनुसार इससे कोरियाई प्रायद्वीप में कभी भी परमाणु युद्ध छिड़ सकता है.

अमरीकी सहर हवाई, ग्वाम और दक्षिण कोरिया पर हमले की संभावना है.

सरकारी मीडिया में उत्तर कोरिया की राजधानी प्यौंगयांग में किम जोंग उन के समर्थन में हज़ारों छात्रों और सैनिकों ने एक रैली निकाली.

उत्तर कोरिया के पास मौजूद कुछ विकसित मिसाइल अमरीका के अलास्का तक हमला कर सकते हैं.

एकतरफा फैसला

व्हाइट हाउस की प्रवक्ता जोश अर्नेटेस्ट के अनुसार उत्तर कोरिया की इस बयानबाज़ी से वो और अलग-थलग पड़ जाएगा.

इस बीच उत्तर कोरिया के सबसे बड़े व्यापारिक सहयोगी चीन ने कहा है कि वो दोनों देशों के बीच 'तनाव' कम करने की हरसंभव कोशिश करेगा.

चीन के विदेश मंत्री लावरोव़ ने एक प्रेस वार्ता में कहा कि इस तनाव भरी स्थिती को कम करने के लिए सबको आगे आना होगा.

लावरोव़ का कहना था कि उन्हें इस बात की चिंता है कि उत्तर कोरिया एकतरफ़ा कार्रवाई करते हुए अपनी सैन्य गतिविधियां बढ़ा रहा है.

संबंधित समाचार