बॉस्टन धमाकों के संदिग्ध से पूछताछ का इंतज़ार

  • 21 अप्रैल 2013
बॉस्टन धमाके के संदिग्ध पकड़े गए
Image caption संदिग्ध के पकड़े जाने के बाद लोगों ने पुलिस का अभिवादन किया

अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि एक विशेष जांच टीम बॉस्टन धमाकों के संदिग्ध से पूछताछ का इंतजार कर रही है.

19 वर्ष के चेचन मूल के संदिग्ध जौहर सारनाइव को शुक्रवार को पुलिस ने व्यापक अभियान के बाद बॉस्टन के वॉटरटाउन इलाके से हिरासत में लिया था.

वो अभी गंभीर लेकिन स्थिर हालत में बताया जाता है. शुक्रवार को पुलिस अभियान के दौरान दोनों तरफ से हुई गोलीबारी में वो घायल हो गया था.

बताया जाता है कि वो अभी बात करने की स्थिति में नहीं है.

पटरी पर लौटती जिंदगी

इस बीच धमाकों के संदिग्ध की धरपकड़ के लिए चले व्यापक अभियान के बाद अब आम जिंदगी पटरी पर लौट रही है.

इसे अमरीकी पुलिस के इतिहास के सबसे बड़े अभियानों में से एक माना जा रहा है.

शुक्रवार को जब जौहर सारनाइव को पकड़ने के लिए पुलिस अभियान चला रही थी तो शहर में पूरी तरह नाकेबंदी थी. जहां सार्वजनिक यातायात ठप था वहीं स्कूल, कॉलेज और सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद थे.

जौहर बोस्टन के उपनगरीय इलाके वॉटरटाउन में एक घर के पीछे नाव में छिपा था. हिरासत में लिए जाने से पहले दोनों तरफ से गोलीबारी भी हुई. इसमें संदिग्ध घायल हो गया और फिलहाल वो अस्पताल में भर्ती है.

जौहर का भाई तैमूरलंग पहले ही पुलिस के साथ गोलीबारी में मारा जा चुका है.

सोमवार को बॉस्टन में मैराथन के दौरान दो धमाके हुए जिनमें तीन लोग मारे गए और 170 से ज्यादा घायल हो गए.

'जश्न का पल'

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि इस बात का पता लगाया जाएगा कि इन धमाकों से पीछे क्या वजह थी और संदिग्धों को कहां कहां से इनमें मदद मिली.

Image caption पुलिस ने संदिग्ध की धरपकड़ के लिए व्यापक अभियान चलाया

जब शुक्रवार की रात पुलिस ने संदिग्ध को पकड़ा तो वहां जमा लोगों ने पुलिस का जोरदार अभिवादन किया. कारों के हॉर्न बजाकर और अमरीकी झंडे फहरा कर उन्होंने जश्न मनाया और “यूएसए” के नारे लगाए.

धमाकों वाली जगह के पास रहने वाली इलिओट फ्रायर का कहना है, “ये जश्न का पल है क्योंकि पूरा शहर सन्न था. अब उससे कहीं ज्यादा सुरक्षित महसूस कर रहे हैं, जितना बीते चार दिनों में हमने महसूस किया है.”

मैसेच्युसेट्स के गवर्नर डेवाल पैट्रिक ने आम लोगों का शुक्रिया अदा किया है कि उन्होंने अदभुत संयम दिखाया और छानबीन में अपना योगदान दिया.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “ये वो रात है जब मुझे लगता है कि हम चैन की नींद सोएंगे.”

सोमवार को मैराथन की फिनिश लाइन के पास हुए धमाके में आठ वर्षीय मार्टिन रिचर्ड, 29 वर्षीय क्रिस्टन कैंपबेल और 23 वर्षीय चीनी छात्रा लु लिंगजी की मौत हो गई.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार