जिस्म एक, मगर सोच जुदा

  • 27 अप्रैल 2013
जुड़ी हुई जुड़वा बहनें
Image caption दाहिने एब्बी हेंसल हैं और ब्रिटनी हेंसल बाएं हैं.

उनका शरीर एक है मगर चेहरे दो हैं. ये एब्बी और ब्रिटनी हेंसल हैं. ये जुड़वा बहनें हैं.

एब्बी और ब्रिटनी हेंसल एक साथ काम पर जाती हैं, दोस्तों के साथ मौज मस्ती करती हैं, छुट्टियां बिताती हैं, ड्राइविंग करती हैं और वॉलीबॉल भी खेलती हैं.

मगर सवाल है कि एक शरीर में दो शख्सियतों का जीवन कितना आसान है और कितना मुश्किल?

तेइस साल की एब्बी और ब्रिटनी अमरीका के मिनेसोटा की रहने वाली हैं. ये दोनों जुड़वा बहनें प्राइमरी स्कूल में टीचर हैं.

एक शरीर और दो चेहरे वाली एब्बी और ब्रिटनी के पास पढ़ाने के लाइसेंस तो दो है, मगर तनख़्वाह उन्हें एक ही मिलती है.

दो डिग्रियाँ

एब्बी बताती हैं, “हमारे पास दो डिग्रियां है, क्योंकि हमारा नज़रिया अलग अलग है, पढा़ने का तरीका भी एक दूसरे से भिन्न है.”

एब्बी मानती हैं कि वे दोनों एक व्यक्ति से ज्यादा काम करती हैं. एब्बी और ब्रिटनी जब क्लास में होती हैं तो उनमें से एक बच्चों को पढ़ा रही होती है और दूसरी सवालों के जवाब दे रही होती है या बच्चों पर नज़र रख रही होती है."

उनके दोस्त करी होन्की इस टीमवर्क की सराहना करते हैं. उनका कहना है, “वे दो अलग लड़कियां हैं. मगर मैं पढ़ाने के जिस काम को ज्यादा तवज्जो नहीं दे पाता, वे उसे बेहतर तरीके से करती हैं."

कमाल की बात ये है कि ये जुड़वा बहनें एक दूसरे को बहुत अच्छी तरह समझती हैं. एक जो कहती है, या जिस तरीके से वाक्य बोलती है दूसरी भी बिल्कुल उसी तरीके से बात करती है.

अनोखा शरीर

Image caption कपड़े के मामले में एब्बी और ब्रिटनी की पसंद अलग है.

जीवन के हर पहलू को संग-संग जीने वाली इन बहनों का शरीर अनोखा है. उनके फेफड़े, दिल और पेट तो दो हैं मगर प्रजनन अंग, लीवर और आंत एक है.

एब्बी और ब्रिटनी ने बचपन से ही शरीर से जुड़ी गतिविधियों के लिए एक दूसरे के साथ तालमेल बिठाना सीखा है. जैसे एब्बी दाहिने हाथ को नियंत्रित करती है तो ब्रिटनी बांए को.

उनके कद में भी अंतर है. एब्बी 5 फुट 2 इंच की हैं तो ब्रिटनी की लंबाई है 4 फुट 10 इंच. उनकी दोनों टांगों की लंबाई अलग अलग होने के कारण ब्रिटनी को संतुलन बनाए रखने के लिए पंजों पर खड़ा रहना पड़ता है.

इसी तरह का संतुलन उन्हें अपने खान-पान से लेकर सामाजिक जीवन और यहां तक कि कपड़ों के मामले में भी बनाना पड़ता है.

एब्बी बताती हैं, “हमारे तौर तरीके एकदम अलग हैं. मैं खुशमिजाज़, मस्त और मज़ाकिया क़िस्म की हूं और ब्रिटनी संतुलित, गंभीर मिजाज़ की हैं.”

ब्रिटनी बताती हैं कि एब्बी मुखर हैं. कौन से कपड़े पहनने हैं, इस बहस में हमेशा वही जीतती हैं. यही नहीं, ब्रिटनी के अनुसार उनकी जुड़वा बहन घर में रहना पसंद करती हैं जबकि उन्हें बाहर घूमना फिरना अच्छा लगता है.

जुदा व्यक्तित्व

एब्बी और ब्रिटनी कई मायनों में एक दूसरे से भिन्न हैं. ब्रिटनी को ऊंचाई से डर लगता है तो एब्बी को ऊंची जगहों पर घूमना पसंद है. इसी तरह एब्बी को गणित और विज्ञान मजेदार लगता है तो ब्रिटनी की रुचि कला से जुड़े विषयों में है.

कॉफी की बात की जाए तो दोनों जुड़वा बहनों के लिए इसके मायने अलग हैं. कॉफी के कुछ कप पीने के बाद ब्रिटनी के दिल की धड़कन बढ़ जाती है, जबकि एब्बी को कोई फर्क नहीं पड़ता.

कई अन्य अचंभों के अलावा ये बात भी आश्चर्यजनक है कि दोनों बहनों के शरीर के तापमान में अंतर है.

एब्बी कहती हैं, “मेरे शरीर का तापमान ब्रिटनी के शरीर के तापमान से एकदम अलग होता है. मेरे हाथ का तापमान ब्रिटनी के हाथ के तापमान से ज्यादा होता है.”

दुश्वारियां

Image caption कॉफी से ब्रिटनी के दिल की धड़कन बढ़ जाती है, जबकि एब्बी को कोई फर्क नहीं पड़ता.

एब्बी और ब्रिटनी को सामान्य पारिवारिक और सामाजिक जीवन जीने के बावजूद एक युवती होने के लिहाज से काम और पढ़ाई के मामले में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.

उदारहण के तौर पर उनका निजी जीवन अक्सर चर्चा में रहता है, जो उन्हें कतई पसंद नहीं.

जुड़ी हुई जुड़वा बहनों का छुट्टियों में घूमने जाने की भी अपनी परेशानियां हैं. इनके पास पासपोर्ट तो दो होते हैं, मगर हवाई जहाज में बैठने की सीट एक ही होती है.

भीड़ भाड़ में उन्हें काफी सचेत रहना पड़ता है. मना करने के बावजूद लोग उनकी तस्वीरें खींचने लगते हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार