पाक: राजनीतिक दलों पर हिंसक हमले

  • 28 अप्रैल 2013
पाकिस्तान धमाका
Image caption तालिबान ने धर्मनिरपेक्ष दलों को धमकी दी है.

पाकिस्तान में अगले माह होनेवाले आम चुनावों के पहले राजनीतिज्ञों को निशाना बनाकर लगातार हो रहे हमलों में रविवार को दो अलग-अलग राजनीतिक दलों के सदस्यों के दफ्तरों के पास धमाके हुए जिसमें आठ लोगों की मौत हो गई है.

पुलिस के मुताबिक़ कम से कम 10 लोग घायल हैं.

दोनों हमले मुल्क के उत्तर-पश्चिमी इलाक़े में हुए हैं.

दूसरों की भी निशाना

कोहट शहर के पास मौजूद स्वतंत्र उम्मीदवार सैयद नूर अकबर और अवामी नेशनल दल के सदस्य के परिसर के पास धमाके हुए.

हमले के वक्त नूर अकबर वहां मौजूद नहीं थे.

पेशावर के पास मौजूद एक स्वतंत्र उम्मीदवार के नासिर खा़न पर भी हमला किया गया.

शनिवार को कराची में सत्तारूढ़ पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के समर्थकों पर हुए आक्रमण में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई थी.

नाराज़गी

हालांकि किसी ने भी हमले की ज़िम्मेदारी क़बूल नहीं की है, लेकिन हाल में ही पाकिस्तान तालिबान की तरफ़ से धर्म-निरपेक्ष राजनीतिक दलों को धमकी मिली थी.

कई राजनेताओं ने तालिबान के ख़िलाफ़ फौज की कार्रवाईयों का समर्थन किया है और तालिबान को इसकी नाराज़गी है.

संवाददाताओं का कहना है कि लगातार हो रहे हमलों ने 11 मई को होने वाले आम चुनावों को हिंसक बना दिया है. जबकि ये पहला चुनाव है जिसमें एक नागरिक सरकार दूसरे को सत्ता सौंप सकती है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार