पेशे से डॉक्टर लेकिन शौक संगीत का

Image caption अबी भारतीय मूल की ब्रितानी नागरिक हैं.

भारतीय मूल की ब्रितानी नागरिक अबी संपा पेशे से डॉक्टर हैं लेकिन उनका सपना हमेशा से गायिका बनने का रहा है.

अब संपा को ये मौका मिला है बीबीसी के संगीत कार्यक्रम द वॉयस में जहां उन्होंने अंग्रेज़ी गाने और भारत के क्लासिकल संगीत का फ्यूज़न किया जिसे बेहद पसंद किया गया.

संपा आठ साल की उम्र से ही सैक्सोफोन बजाती थीं और वीणा भी लेकिन उनके माता पिता को लगता था कि संगीत की दुनिया संपा के लिए बहुत कठिन होगी.

इस आशंका को देखते हुए संपा ने डॉक्टरी का पेशा अपनाया और दांतों की डाक्टर बनी.

27 वर्षीय संपा पिछले कुछ समय से प्रैक्टिस कर रही हैं लेकिन बीबीसी के द वॉयस कार्यक्रम में जब उन्होंने शिरकत की तो उनकी दुनिया ही बदल गई.

संपा का कहना था, ‘‘हर दिन वही दांतों में फिलिंग भरना, रुट कैनललगाना. यही सब काम होता था लेकिन मेरे दिमाग में कहीं एक आवाज़ गूंजती थी कि ये काम मेरे लिए नहीं है. मुझे संगीत के क्षेत्र में जाना है.’’

संपा कहती हैं, '' अब समय आ गया है कि मैं संगीत में करियर बनाने के सपने को पूरा करुं.''

अब संपा इस कार्यक्रम में चुनी गई हैं जहां वो अगले कुछ दिनों में अन्य प्रतिस्पर्धियों के साथ मुकाबला करेंगी.

उनके गाने की परफार्मेंस के बाद उन्हें जिस तरह का समर्थन मिला है उससे वो अभिभूत हैं. फेसबुक पर उनके पन्ने को तीन हज़ार से अधिक लाइक मिल चुके हैं जबकि ट्विटर पर उन्हें फॉलो करने वालों की संख्या 2375 हो गई है.

अबी फेसबुक पर कहती हैं, ‘‘ मुझे जिस तरह का समर्थन मिला है मैंने उसकी उम्मीद नहीं थी. सबको मेरा प्यार.’’

भारत में जहां आम तौर पर माता पिता बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर या किसी ऐसे पेशे में भेजना चाहते हैं जहां भविष्य सुरक्षित हो वहीं ब्रिटेन में एक भारतीय मूल की लड़की ने न केवल मां बाप के सपनों को साकार किया बल्कि अपने सपने को पूरा करने की राह पर भी चल पड़ी है.