बांग्लादेश फ़ैक्टरी हादसा: मृतक संख्या हज़ार के पार

बांग्लादेश
Image caption शुक्रवार को राहत कार्य बंद किया जा रहा है

बांग्लादेश की सेना का कहना है कि पिछले महीने राजधानी ढाका के पास एक फ़ैक्टरी की इमारत गिरने से मरने वालों की संख्या बढ़कर एक हज़ार से भी ज़्यादा हो गई है.

सेना पिछले 17 दिनों से राहत कार्य चला रही है. गुरुवार को भी आठ मंज़िला इमारत के मलबे से 100 से ज़्यादा शव निकाले गए. मारे गए ज़्यादातर लोग कपड़ा फ़ैक्टरी में काम करने वाले थे.

इसे बांग्लादेश के इतिहास का सबसे बड़ा औद्योगिक हादसा माना जा रहा है. 24 अप्रैल को सावर इलाक़े में राना प्लाज़ा नाम की ये आठ मंज़िला इमारत ढह गई थी.

इस हादसे के कारण लोगों में काफ़ी ग़ुस्सा है, साथ ही इमारतों की सुरक्षा को लेकर भी गंभीर सवाल उठ रहे हैं.

सुरक्षा

कर्मचारियों का कहना है कि फ़ैक्टरी की इमारत में दरार थी, लेकिन उन्हें मालिकों ने काम करने को मजबूर किया.

इस दुर्घटना के बाद सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए 18 कपड़ा फ़ैक्टरियों को बंद कर दिया गया है.

सरकार ने फ़ैक्टरियों की इमारतों की स्थिति की निगरानी के लिए एक शीर्ष स्तरीय आयोग का गठन किया है. इस आयोग को उन फ़ैक्टरियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने का भी अधिकार होगा, जो क़ानून का पालन नहीं कर रही हैं.

अधिकारियों के मुताबिक़ ढाई हज़ार लोग घायल हुए हैं, जबकि 2437 लोगों को सुरक्षित निकाला गया है. राहतकर्मियों का कहना है कि वे शुक्रवार को राहत कार्य बंद कर देंगे, इसके बाद मलबे को बुलडोज़र से हटाया जाएगा.

बांग्लादेश दुनिया के सबसे बड़े कपड़ा उद्योग केंद्रों में से एक है. इस उद्योग से क़रीब 40 लाख लोग जुड़े हुए हैं. देश के सालाना निर्यात का 80 प्रतिशत कपड़ा उद्योग से आता है.

संबंधित समाचार