बांग्लादेश पहुंचा तूफान महासेन, एक की मौत

  • 16 मई 2013
तूफान महासेन से लोगों में दहशत है

समुद्री तूफान महासेन बांग्लादेश के दक्षिणी तट से होकर गुजर रहा है, जिससे दहशत में लोग अपने घरों को छोड़ कर भाग रहे हैं.

तूफान गुरुवार को सौ किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार वाली हवाओं के साथ पटुआखाली जिले में पहुंचा और ये चटगांव और कोक्स बाजार के इलाकों की तरफ बढ़ रहा है.

बांग्लादेश के अधिकारियों ने तूफान के कारण एक व्यक्ति के मारे जाने की पुष्टि की है.

बांग्लादेश और बर्मा के निचले इलाकों में रहने वाले सैकड़ों लोगों से सुरक्षित शिविरों में जाने को कहा गया है.

लेकिन बर्मा के रखाइन प्रांत में कुछ बेघर लोगों ने शरणार्थी शिविर छोड़ने से इनकार कर दिया है.

संयुक्त राष्ट्र ने चेतावनी दी है कि महासेन के कारण बांग्लादेश, बर्मा और पूर्वोत्तर भारत में 82 लाख लोग जोखिम में पड़ सकते हैं.

तूफान केंद्रों पर भीड़

बांग्लादेश के अधिकारियों ने चटगांव और कोक्स बाजार के आसपास वाले इलाकों के लिए खतरे का स्तर बढ़ा कर सात कर दिया है. खतरे का आंकलन कुल 10 स्तरों पर किया जाता है.

Image caption बहुत से लोग तूफान पीड़ितों के लिए बने शिविरों में पहुंच रहे हैं

हालांकि बांग्लादेशी मौसम विभाग के उपनिदेशक सम्सुद्दुन अहमद ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि तूफान से ज़्यादा तबाही होने की आशंका नहीं है क्योंकि ये ज्यादा शक्तिशाली नहीं है.

लेकिन बांग्लादेश में निचले इलाकों में कमर तक पानी भर जाने की खबरें हैं जिससे घरों को नुकसान हुआ है. ऐसी भी आशंकाएं है कि तूफान बढ़ सकता है.

बीबीसी के मीर सब्बीर ने ढाका से खबर दी है कि सभी स्कूलों, कॉलेजों और कुछ होटलों को तूफान प्रभावितों के लिए शिविर घोषित किया गया है. बड़ी संख्या में लोग इन केंद्रों में पहुंच गए हैं और उनके आने का सिलसिला जारी है.

कोक्स बाज़ार और चटगांव में खतरा टलने तक हवाई अड्डों को बंद कर दिया गया है.

इस बीच बर्मा में रखाइन प्रांत के निचले इलाकों में रह रहे मुसलमान तूफान के कारण जोखिम में बताए जाते हैं.

ये लोग पिछले साल हुई जातीय हिंसा के बाद से बेघर हैं और वो अधिकारियों की चेतावनियों के बावजूद शिविरों को छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं.

मंगलवार को 50 रोहिंग्या मुसलमान उस वक्त डूब गए जब उन्हें बर्मा के तट पर तूफान के संभावित मार्ग से हटा कर नाव के जरिए दूसरी जगह पर ले जाया जा रहा था.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. अपनी राय देने के लिए आप हमारे फेसबुक पन्ने पर आ सकते हैं और ट्विटर पर भी फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार