बॉस्टन धमाके: 'उग्र' संदिग्ध को जांच दल ने मारी गोली

  • 22 मई 2013
टोडाशेव
Image caption मिश्रित-मार्शल आर्ट लड़ाके टोडाशेव भी सारनाएफ़ की तरह चेचेन्या से ही था.

बॉस्टन बम धमाकों की जांच कर रही अमरीकी जांच एजेंसी एफ़बीआई के दल ने पूछताछ के दौरान एक संदिग्ध के हिंसक होने पर उसे गोली मार दी.

अधिकारियों के अनुसार बुधवार की सुबह फ़्लोरिडा के ऑरलेंडो में 27 वर्षीय इब्राहिम टोडाशेव से पूछताछ के दौरान यह घटना हुई.

एफ़बीआई प्रवक्ता पॉल ब्रेसन ने एक बयान में कहा कि टोडाशेव को गोली इसलिए मारी गई क्योंकि वह अचानक उग्र हो गया था.

एक एफ़बीआई कर्मचारी को भी अस्पताल ले जाया गया है, लेकिन उसकी जान को ख़तरा नहीं है.

अमरीकी मीडिया की रिपोर्ट्स में कहा गया है कि टोडाशेव पिछले महीने पुलिस मुठभेड़ में मारे गए बॉस्टन बम धमाकों के अभियुक्त तमरलान सारनाएफ़ को जानता था.

मार्शल आर्ट जानता था टोडाशेव

ख़बरों के अनुसार मिश्रित-मार्शल आर्ट लड़ाके टोडाशेव भी सारनाएफ़ की तरह चेचेन्या से ही था.

टोडाशेव के दोस्त, खुसेन तारामोव, ने फ्लोरिडा न्यूज़ 13 को बताया कि बोस्टम धमाकों के बाद ही एफ़बीआई ने टोडाशेव से पूछताछ शुरू कर दी थी.

तारामोव ने कथित तौर पर कहा, “जब उन्हें पता चला कि हमलावर चेचेन्या के थे उन्होंने हमारा पीछा करना, हम पर नज़र रखना शुरू कर दिया.”

उसने बताया कि एफ़बीआई टोडाशेव पर चेचेन्या का एक हवाई यात्रा टिकट रद्द करने का दबाव डाल रही थी. यह टिकट उसने बॉस्टन धमाकों से पहले ख़रीदा था.

समाचार एजेंसी एपी के अनुसार ऑरलेंडो शॉपिंग सेंटर में पार्किंग को लेकर हुए विवाद के बाद इस महीने की शुरूआत में टोडाशेव को गिरफ़्तार किया गया था.

बॉस्टन बम धमाके

Image caption अप्रैल में बॉस्टन में हुए बम धमाकों में तीन लोगों की मौत हो गई थी और 264 घायल हो गए थे.

ऑरेंज काउंटी शेरिफ़ ऑफ़िस से मिली एक रिपोर्ट के अनुसार टोडाशेव ने झगड़े के दौरान एक व्यक्ति के चेहरे को घायल कर उसे अस्पताल पहुंचा दिया था.

बॉस्टन मैराथन के दौरान 15 अप्रैल को हुए बम धमाकों में तीन लोगों की मौत हो गई थी और 264 घायल हो गए थे.

मारे गए मुख्य अभियुक्त तमरलान सारनाएफ़ के 19 वर्षीय भाई ज़ोख़र सारनाएफ़ को भी गले में गोली लगी थी.

उसे अस्पताल में ही गिरफ़्तारी में रखा गया है. अगर अपराध साबित हो गया तो उसे मौत की सज़ा मिल सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार