जब मोबाइल फोन की रोशनी में हुआ ऑपरेशन!

Image caption मिस्र की सरकार का कहना है कि बार-बार होने वाले पावर कट के लिए बढ़ती सार्वजनिक खपत ज़िम्मेदार है.

मिस्र में स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अचानक बिजली गुल होने की वजह से एक अस्पताल में डॉक्टरों को ऑपरेशन के दौरान रोशनी के लिए अपने मोबाइल फोनों का इस्तेमाल करना पड़ा.

देश के दक्षिण में किना शहर में एक मरीज़ के पित्ताश्य का छोटा सा ऑपरेशन होना था लेकिन इससे पहले ही बिजली गुल हो गई.

अल-मसरी अल-योउम अख़बार के मुताबिक 60-वर्षीय मरीज़ की किस्मत अच्छी थी कि ऑपरेशन करते समय किना के अस्पताल के डॉक्टरों के मोबाइल फोनों की बैटरी पूरी थी.

प्रांतीय गवर्नर ने बाद में मामले की तुरंत जांच के आदेश दिए. उनका कहना था कि इस बात कोई जवाब नहीं था कि अस्पताल के आपातकालिक जैनरेटर क्यों नहीं चले.

दिनचर्या का हिस्सा

हाल के समय में बहुत से मिस्रवासियों के लिए बिजली गुल होना उनकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है.

Image caption मिस्र के किना शहर में एक अस्पताल में डॉक्टरों को मोबाइल फोन की रोशनी में ऑपरेशन करना पड़ा.

पिछले दो महीनों से मिस्र के कई शहरों में बार-बार बिजली जाने की वजह से ब्लैकआउट हो रहा है.

यहां तक कि राजधानी काहिरा के संपन्न इलाकों और मुख्य केंद्रों पर भी इसका असर पड़ा है और पिछले महीने काहिरा के अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे की बार-बार बिजली गुल हुई थी.

घंटो बिजली गुल

माना जा रहा है कि आठ करोड़ की आबादी वाले मिस्र के पास बिजलीघरों को चालू रखने के लिए ज़रूरी ईंधन खरीदने के लिए धन नहीं है.

सरकार का कहना है कि बार-बार होने वाले पावर कट के लिए सरकार बढ़ती सार्वजनिक खपत ज़िम्मेदार है जिसके चलते प्रशासन को दिन में दो बार दो-दो घंटे तक बिजली काटनी पड़ती है.

लेकिन मिस्रवासियों का, और ख़ासकर ग़रीब शहरों और गांवों में रहने वाले लोग शिकायत करते हैं कि पावर कट इससे कहीं ज़्यादा लंबे होते हैं.

विपक्ष का आरोप है कि राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी की सरकार अयोग्य है और अर्थव्यवस्था ठीक से नहीं चला रही.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार