66 साल बाद पता चला कि वो मर्द नहीं औरत है

  • 6 जून 2013
अंडाश्य
Image caption पुरुष को पता नहीं था कि उनके पेट में अंडाशय हैं

चीन में 66 साल के एक व्यक्ति को पेट में दर्द होता है और वो इलाज के लिए डॉक्टर के पास जाता है. डॉक्टर ने जब इस व्यक्ति के पेट में दर्द के कारणों का पता करने की कोशिश की तो वो बीमारी जानकर चकितरह जाते हैं.

दरअसल इस बुजुर्ग के पेट में दर्द का कारण उनके अंडाशय में एक गाँठ का होना बताया गया और पता चला कि वो पुरुष नहीं बल्कि एक महिला थे.

ये ख़बर साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में छपी है. हॉंगकॉंग मेडिकल जर्नल में इस व्यक्ति की बीमारी के बारे में बताया गया है कि ये 'रेयस्ट ऑफ दी रेयर' यानी दुर्लभतम मामलों से से एक है.

आनुवांशिक विकार

जर्नल के मुताबिक दो आनुवांशिक विकारों का एक दूसरे से जुड़ जाना इस बीमारी का कारण होता है.

इसे टर्नर सिंड्रोम कहा जाता है और ऐसे व्यक्तियों में महिलाओं के मुख्य लक्षण जैसे वो मां नहीं बन सकती है और उसमें महिलाओं के शरीर में होने वाला विकास भी नहीं होता है.

हालांकि जिन लोगों को ये सिंड्रोम होता है वो महिलाओं जैसे दिखते जरुर हैं लेकिन उनके लक्षण स्त्री प्रधान नहीं होते.

लेकिन इन बुजुर्ग का मामला थोड़ा अलग है क्योंकि वो कॉजेनिटल आर्ड्रिनल हाइपरपलेसिआ से पीड़ित है. इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के शरीर से पुरुष हॉर्मोन भी ज़्यादा मात्रा में निकलते है और जब महिला और पुरुष दोनों हॉर्मोन मिल जाते है तो एक विपरीत स्थिति पैदा हो जाती है.

पुरुष जैसा बर्ताव

Image caption डॉक्टर ने जांच में पाया कि इन्हें आनुवांशिक विकार है

चार फुट पांच इंच के ये दुबले पतले व्यक्ति एक मर्द की तरह ही नज़र आते हैं और उनका बर्ताव भी वैसा ही है और इन्हें ज़माने तक पता ही नहीं चला कि इनमें महिलाओं जैसे लक्षण हैं.

इन्हें पेशाब करते वक्त दिक्कत आती थी और अन्य तरह की बीमारियां थी, लेकिन उन्होंने कभी ये नहीं सोचा कि उन्हें किसी प्रकार का आनुवांशिक विकार है और यही इनकी परेशानी का मुख्य कारण बन रहा है.वो हमेशा खुद को एक पुरुष ही समझते रहे.

लेकिन अब क्वॉंग वाह अस्पताल और हॉंकॉंग में स्थित क्वीन एलीज़ाबेथ अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि इस व्यक्ति के शरीर में निश्चित ही अंडाश्य और महिलाओं को लक्षण रहे होंगे.

रिपोर्टों के अनुसार इस व्यक्ति ने खुद को पुरुष मानने की बात कही है और वो अब पुरुष हॉर्मोन का इलाज करवाएंगे.

बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

( बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार