भोजपत्रों, रोमन प्यालों में छिपे समलैंगिकता के राज़

  • 24 जून 2013
Image caption एक सर्वेक्षण में लोगों की राय थी कि रोमन शासक हैड्रियन समलैंगिक थे

ब्रिटिश म्यूजियम ने समलैंगिकता के इतिहास को दर्शाने वाली एक अनोखी किताब प्रकाशित की है जिसका नाम है- ‘ए लिटिल गे हिस्ट्री’.

इस किताब में प्राचीन मिस्र में भोजपत्रों पर लिखे गए अभिलेखों और रोमन साम्राज्य में प्यालों पर बनी तमाम उत्तेजक कलाकृतियों से लेकर समलैंगिकता से जुड़ी आधुनिक तस्वीरें और अन्य सामग्रियां तक शामिल हैं.

रिचर्ड पार्किंसन द्वारा लिखी गई इस किताब में समलैंगिक संबंधों को दर्शाने वाली तमाम तस्वीरों को ढूंढ़ने की कोशिश की गई है. साथ ही उन कठिनाइयों का भी ज़िक्र है जो कि समलैंगिकों के रिकॉर्ड को सहेजने के संबंध में सामने आती हैं.

Image caption वॉरेन कप पर बनी इस कृति को संग्रहालय ने 1950 के दशक में रखने से मना कर दिया था

इस किताब में कुछ ऑडियो सामग्री भी है जिसे लोग अगले हफ्ते लंदन में होने वाले प्राइड महोत्सव में सुन सकेंगे.

इस किताब में ब्रिटिश संग्रहालय के विभिन्न पहलुओं का भी विस्तार से ज़िक्र है कि कैसे प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल तक की चीजें वहां सँजोकर रखी हुई हैं.

किताब के लेखक पार्किंसन कहते हैं, “अपनी लैंगिक पहचान पर विचार के लिए संग्रहालय हमेशा से ही लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण स्थान रहे हैं.”

वो आगे कहते हैं, “ज़्यादातर संग्रहालयों में ऐसी ग्रीक और रोमन मूर्तियों का संग्रह है जिनमें लगभग नग्न पुरुष होते हैं. इसलिए ऐसे लोगों के लिए जो कि पुरुषों के प्रति आकर्षित होते हैं तो उन्हें ये जगह बहुत भाती है क्योंकि यहां वे जी भर कर पुरुष का नग्न शरीर देख सकते हैं.”

ये किताब समलैंगिक इच्छाओं और लैंगिक पहचान के साथ शुरू होती है जो कि साल 2010 में शुरू हुए एलजीबीटी हिस्ट्री अभियान का एक हिस्सा है.

पार्किंसन बताते हैं कि साल 2008 में ब्रिटिश म्यूजियम की ओर से रोमन शासक हैड्रियन पर कराए गए एक दर्शक सर्वेक्षण के मुताबिक हैड्रियन के बारे में ज़्यादातर लोगों की यही राय थी कि वे समलैंगिक थे.

कांसे की बनी हैड्रियन प्रतिमा के सिर की ओर इशारा करते हुए पार्किंसन याद करते हैं एंटिनस के नील नदी में डूब जाने पर हैड्रियन औरतों की तरह फूट-फूट कर रोए थे.

वो कहते हैं कि लोग अभी भी यही मानते हैं कि समलैंगिको का इतिहास अल्पसंख्यकों का इतिहास है, लेकिन वास्तव में ये मानव इतिहास का ही एक हिस्सा है.

उनके मुताबिक लैंगिक विविधता हम सब को किसी न किसी रूप में प्रभावित करती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकतें हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार