चीन की अर्थव्यवस्था में फिर गिरावट

चीन की अर्थव्यवस्था
Image caption दुनियाभर में चीन के सामानों की मांग घट रही है.

चीन की आर्थिक विकास दर में लगातार दूसरी तिमाही में गिरावट दर्ज की गई है.

ताज़ा सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल से जून की अवधि में चीन की आर्थिक विकास दर 7.5 प्रतिशत रही जो इससे पहले जनवरी से मार्च तक पहली तिमाही में 7.7 प्रतिशत थी.

ये आंकड़े विश्लेषकों की उम्मीदों के अनुसार हैं. उनका कहना है कि दशकों तक ऊंची विकास दर हासिल करने के बाद ऐसा लगता है कि चीन की सरकार भी अर्थव्यवस्था की सुस्त रफ़्तार को स्वीकार करने को तैयार है.

आंकड़े दर्शाते हैं कि व्यापार की सुस्त चाल और कर्ज़ देने में बैंकों पर सख़्ती से विकास की गति धीमी हुई है.

अर्थव्यवस्था ढलान पर

शंघाई के एएनजेड बैंक झोऊ हाई ने कहा, “ये आंकड़े चौंकाने वाले नहीं हैं और इससे इस बात के संकेत मिलते है कि चीन की अर्थव्यवस्था ढलान पर है.”

चीन के राष्ट्रीय राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के प्रवक्ता शेंग लैयान ने कहा, “इससे जो बड़े संकेत मिल रहे हैं वो हमारे लक्ष्यों के अनुरूप हैं लेकिन हमारे सामने जटिल स्थिति पैदा हो गई है.”

आर्थिक संगठन आईएचएस ग्लोबल इनसाइट के अर्थशास्त्री रेन शियानफेंग कहते हैं, “पिछली लगातार पांच तिमाही से चीन की सकल घरेलू विकास दर आठ प्रतिशत से कम रही है. इससे जाहिर होता है कि अर्थव्यवस्था ढलान पर है.”

उन्होंने कहा, “आर्थिक विकास दर में गिरावट और वित्तीय बाज़ार में हालिया हलचल से इस बात के साफ़ संकेत हैं कि वित्तीय और रियल गुड्स सेक्टर में जोखिम की स्थिति बन रही है.”

सरकार ने 2013 में 7.5 प्रतिशत विकास दर का लक्ष्य रखा है जो दो दशक से अधिक समय में सबसे कम है.

'आगे होगा फ़ायदा'

विश्लेषक सवाल उठाते हैं कि अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए सरकारी उपाय किए बिना इस लक्ष्य को हासिल करना मुश्किल लगता है.

चीन के नेता बराबर कहते आए हैं कि उनकी दीर्घकालिक योजना देश की अर्थव्यवस्था में संतुलन कायम करना है ताकि निर्यात और निवेश पर इसकी निर्भरता कम हो सके.

चीनी सांख्यिकी ब्यूरो के शेंग लैयान ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “संपत्ति संबंधी नियमों को कड़ा करने, जनता के पैसे के दुरुपयोग रोकने के लिए बनाए गए नए नियमों और कुछ पुराने पैकेजों के समाप्त होने से विकास दर प्रभावित हुई है लेकिन आने वाले समय में इससे फ़ायदा मिलेगा.”

वर्ष 2012 में चीन की अर्थव्यवस्था 7.8 प्रतिशत की दर से बढ़ी थी जो 13 सालों में सबसे ख़राब प्रदर्शन था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर क्लिक करें फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार