बिक सकती है ब्लैकबेरी कंपनी

ब्लैकबेरी
Image caption ब्लैकबेरी को पिछली तिमाही में आठ करोड़ डॉलर से ज़्यादा का घाटा हुआ था.

स्मार्टफ़ोन बनाने वाली कंपनी ब्लैकबेरी ने बिज़नेस के नए विकल्प तलाशने के लिए एक नई समिति का गठन किया है जो कंपनी को बेचने के विकल्प पर भी विचार करेगी.

ब्लैकबेरी बोर्ड के एक सदस्य टिमोथी डैटल्स को इस समिति का अध्यक्ष बनाया गया है. यह समिति विभिन्न बिज़नेस मॉडलों पर विचार करेगी जिसमें नई व्यावसायिक साझेदारियां भी शामिल हैं.

कंपनी अपने ब्लैकबेरी 10 मॉडल की बिक्री बढ़ाना चाहती है जिसे कंपनी के भविष्य के लिए अहम माना जा रहा है. ब्लैकबेरी को पिछले कुछ सालों में स्मार्टफ़ोन बाजार में ऐपल और गूगल के एंड्रायड ऑपरेटिंग सिस्टम से काफी संघर्ष करना पड़ा है.

कंपनी ने जनवरी, 2013 में रिसर्च इन मोशन नाम त्यागकर ब्लैकबेरी नाम अपनाया था और ब्लैकबेरी टेन मॉडल को बाजार में उतारा था.

कंपनी को पिछली तिमाही में आठ करोड़ चालीस लाख डॉलर का नुकसान हुआ था. माना जा रहा है कि मौजूदा तिमाही में उसे और ज़्यादा नुकसान हो सकता है.

इस्तीफ़ा

ब्लैकबेरी बोर्ड के एक सदस्य टिमोथी डैटल्स कहा ने कहा है , “हम समझते हैं किह नई रणनीतियों पर विचार करने का यही सही समय है."

उन्होंने कहा, "पिछले साल ब्लैकबेरी प्रबंधन और बोर्ड ब्लैकबेरी 10 के लॉन्च और बीईएस 10 की स्थापना करने तथा कंपनी की वित्तीय स्थिति को बेहतर बनाने में व्यस्त रहा. हमने इस बात का भी मूल्यांकन किया कि ग्राहकों और शेयरधारकों के दीर्घकालीन हितों की पूर्ति करने वाला नज़रिया अपनाया जा सके.”

ब्लैकबेरी के सबसे बड़े शेयरधारक फेयरफैक्स फाइनेंशियल के चेयरमैन प्रेम वत्स ने इस समिति के गठन की घोषणा के बाद बोर्ड से इस्तीफा दे दिया.

वत्स ने कहा कि वो दोनों कंपनियों के बीच हितों के संभावित टकराव से बचना चाहते थे.

वत्स ने कहा, “मैं कंपनी, बोर्ड और प्रबंधन का प्रबल समर्थक बना रहूँगा क्योंकि इस क़दम से कंपनी आगे बढ़ना चाहती है. फेयरफैक्स फाइनेंशियल का फिलहाल अपने शेयर बेचने का कोई इरादा नहीं है.”

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार