प्रधानमंत्री की टैक्सी में 'किराए' की सवारी

नॉर्वे के प्रधानमंत्री येंस स्टोल्टनबर्ग जिस टैक्सी को चला रहे थे उस टैक्सी में बैठने के लिए लोगों को पैसे दिए गए थे.

सत्तारुढ़ राजनीतिक दल लेबर पार्टी ने इस बात की पुष्टि की है. इसके मुताबिक इस वीडियो में फ़िल्माए गए 14 यात्रियों में से पांच यात्रियों में प्रत्येक को करीब 500 क्रोनर यानि 85 डॉलर यानि करीब 5100 रुपये दिए गए थे.

हालांकि जब उन्हें इस वीडियो में शामिल होने के लिए कहा गया तब ये नहीं बताया गया था उसमें क्या होगा.

प्रधानमंत्री ने कहा था कि वे अगले महीने होने वाले चुनाव से पहले वास्तविक मतदाताओं की आवाज़ को सुनना चाहते थे.

उनकी पार्टी 2005 से सत्ता में है. लेकिन हाल में हो रहे जनमत सर्वेक्षणों में नॉर्वे की कंज़रवेटिव पार्टी से उनकी पार्टी पिछड़ रही है.

प्रधानमंत्री की आलोचना

वैसे ये वीडियो एक एडवर्टाइजिंग कंपनी के सहयोग से जून में बनाया गया था. इसका इस्तेमाल चुनाव अभियान में होना था लेकिन स्टोल्टनबर्ग के फ़ेसबुक पन्ने पर इसे पहले ही पोस्ट कर दिया गया.

नार्वे के वेरडेंस गैंग(वीजी) टेबलॉयड ने ये ख़ुलासा किया है कि स्टोल्टनबर्ग की सवारियों से पांच लोगों को अचानक नहीं चुना गया था.

हालांकि पार्टी की प्रवक्ता पिया गुलब्रैंडसेन ने कहा, “पांच सामान्य लोगों से कहा गया था कि वे लेबर पार्टी के वीडियो में शामिल होना चाहते हैं, इसके अलावा उन्हें कुछ नहीं मालूम था. उन्हें बस इतना मालूम था कि उन्हें एक टैक्सी में यात्रा करनी है.”

इन लोगों को एकदम मौके पर जाकर पता चला कि प्रधानमंत्री टैक्सी चलाने वाले हैं. इन लोगों को सवारी करने के लिए कोई किराया नहीं चुकाना पड़ा.

हालांकि नॉर्वे के प्रधानमंत्री येंस स्टोल्टनबर्ग की ड्राइविंग की आलोचना भी ख़ूब हुई है. उन्होंने एक बार ग़लती से ब्रैक को जोर से दबा दिया. उन्होंने इसके बारे में बताया कि ऑटोमैटिक कार को ग़लती से क्लच समझ लिया था.

नॉर्वे के दो बार प्रधानमंत्री रह चुके स्टोल्टनबर्ग ने कहा कि बीते आठ सालों से उन्होंने ड्राइविंग नहीं की थी.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार