ब्रेड खा खाकर मोटी हो रही हैं बत्तखें

Image caption ब्रिटेन में बतख ज़्यादा खाने से उड़ नहीं पा रहे हैं

ब्रिटेन में बत्तखें इन दिनों एक अजीबोगरीब समस्या का सामना कर रही हैं. पर्यटकों का दिया खाना उनके लिए मुसीबत बन रहा है.

पीटरबोरो के पार्क में बत्तखों को देखने आने वाले लोग उन्हें सफेद ब्रेड खाने को दे रहे हैं जिसे खाकर बत्तखों का वज़न तेज़ी से बढ़ रहा है.

बत्तखों के संरक्षण से जुड़े अधिकारी क्रिस पार्क ने बताया कि पर्यटकों को अब गोलियां मुहैया कराई जा रही हैं ताकि बत्तखों के वज़न पर काबू पाया जा सके.

उन्होंने बताया, “अगर आप पूरे दिन सफेद ब्रेड खाते रहेंगे तो आपका वजन बढ़ेगा ही.”

'नहीं उड़ पाएंगी बत्तख'

ब्रिटिश ट्रस्ट फॉर आर्नेथोलॉजी (बीटीओ) के एक प्रवक्ता ने भी बताया है कि पक्षियों का ज़्यादा ब्रेड खाना चिंता का कारण है.

पार्क ने कहा कि कई पक्षियों का स्वास्थ्य बिगड़ चुका है, क्योंकि वे भी अपना आहार नहीं ले रहे हैं. उन्होंने बताया, “बत्तख उपयुक्त पोषण नहीं खा रही हैं. वे मोटी और भारीभरकम हो रही हैं. युवा और छोटी बत्तखों में भी कुपोषण के संकेत दिखने लगे हैं. उनके पंख ठीक ढंग से विकसित नहीं हो रहे हैं और ऐसे में वे उड़ नहीं पाएंगी.”

हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई है कि बत्तखों को उपयुक्त खाना देने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा.

कैंब्रिजशायर का पैपवर्थ अस्पताल प्रबंधन भी अपने तालाब में मौजूद बत्तखों के बढ़ते वज़न से परेशान है. यहां बाहर से आने वाले लोगों के लिए जो दुकान है वहां पक्षियों को खिलाने का खाना पैकेट में उपलब्ध है.

अस्पताल प्रबंधन के एक सदस्य ने बताया, “हमें ये निर्धारित करना होगा कि हम कितने पैकेट बेच सकते हैं क्योंकि यहां की बत्तख ख़ूब खा रही हैं और इससे उनका वज़न बढ़ रहा है.”

ब्रिटिश ट्रस्ट फॉर आर्नेथोलॉजी (बीटीओ) के ग्राहम एपलेटन ने कहा, “कुछ लोगों को इस बात की चिंता ज़रूर है कि वे बत्तखों को सफेद ब्रेड कितनी खाने को दें. ऐसे में हम लोगों को इस बात के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं कि वे बत्तखों को प्राकृतिक पोषण मसलन, मेवा-अखरोट, फल और बीज इत्यादि खाने को दें.”

एपलेटन ने कहा, “ जब आप तालाब में देखेंगे तो पाएंगे कि वे वहां बैठी हैं और बस खा रही हैं. ऐसे में उनका वज़न बढ़ रहा है.”

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार