मिस्र: मोरसी समर्थक फिर सड़कों पर उतरे

  • 31 अगस्त 2013

मिस्र में अपदस्थ राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी के हज़ारों समर्थकों ने सरकार के विरोध में सड़कों पर प्रदर्शन किया है.

इस दौरान कई शहरों में पुलिस और मुस्लिम ब्रदरहुड के समर्थकों के बीच हुए संघर्ष में कम से कम छह लोग मारे गए हैं.

संवाददाताओं का कहना है कि प्रदर्शनकारियों ने गुट बनाकर प्रदर्शन किया और वो काहिरा के मुख्य चौराहों से बचते रहे क्योंकि वहाँ दंगा नियंत्रक पुलिस और टैंकों को तैनात किया गया था.

गृह मंत्रालय ने पहले ही सुरक्षा बलों को सार्वजनिक संस्थाओं पर हमला करने वाले प्रदर्शनकारियों के खिलाफ गोला बारूद के इस्तेमाल की चेतावनी दे रखी थी.

प्रदर्शनकारी नारे लगा रहे थे," गृह मंत्रालय देश को धोखा दे रहा है" और " मिस्र धर्मनिरपेक्ष नहीं इस्लामी देश है "

शुक्रवार की नमाज़ के बाद लगभग 500 से ज़्यादा प्रदर्शनकारी सड़क पर निकल आए.

ब्रदरहुड के नेता गिरफ्तार

गुरुवार को पुलिस ने ब्रदरहुड की राजनीतिक इकाई फ्रीडम और जस्टिस पार्टी के महासचिव मोहम्मद-अल-बेलतगी को हिरासत में लिया था, उन पर हिंसा भड़काने का आरोप है. पूर्व श्रम मंत्री खालिद-अल-अज़ाहिरी को भी गिरफ़्तार किया गया है.

मोहम्मद अल बेलतगी और अल-अज़ाहिरी को गुरुवार को काहिरा के बाहरी इलाके में एक फ्लैट से गिरफ़्तार किया गया था.

पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी को सत्ता से हटाने और नज़रबंद करने के बाद से ही ब्रदरहुड के नेताओं की धर-पकड़ जारी है.

देखिए: अमन के लिए तरसता मिस्र

इसी महीने,जब सुरक्षा बलों ने काहिरा के विरोधी शिविरों पर धावा बोला था और इसमें सैकड़ों लोग मारे गए थे. मारे गए लोगों में मोहम्मद अल बेलतगी की 17 वर्षीय बेटी आसमा भी थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार