राष्ट्रपतियों की भी हो रही थी जासूसी?

  • 3 सितंबर 2013
ब्राज़ील, मैक्सिको, राष्ट्रपति, जासूसी

ब्राज़ील और मैक्सिको ने नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी यानी एनएसए द्वारा उसके राष्ट्रपतियों की जासूसी के दावों पर अमरीका से स्पष्टीकरण मांगा है.

पत्रकार ग्लेन ग्रीनवाल्ड ने ब्राज़ीली टीवी ग्लोबो पर कहा, ''ब्राज़ीली नेता दीलमा रॉसेफ़ और मैक्सिको के एनरिक पेना निएतो के इंटरनेट डेटा को अमेरिकी एजेंसी द्वारा बीच में रोककर देखा जाता था.''

ग्रीनवाल्ड को इससे संबंधित गुप्त फ़ाइलें अमरीकी ख़ुफ़िया सूचनाएं लीक करने के आरोपी एडवर्ड स्नोडेनसे मिली हैं.

ब्राज़ील का कहना है कि डेटा रोकना उसकी संप्रभुता से खिलवाड़ है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. मैक्सिको ने भी इस मामले में जांच की मांग की है.

ब्राज़ीली सीनेटर एडुआर्डो सुप्लिसी ने बीबीसी के न्यूज़ ऑवर प्रोग्राम में कहा, ''इस बात की कतई अनुमति नहीं दी जा सकती कि अमरीकी एजेंसी या अमरीकी सरकार द्वारा भाड़े पर लिए गए लोग देखें कि कोई ब्राज़ीली नागरिक क्या कर रहा है.''

अमरीकी राजदूत तलब

न्यूज एजेंसी एएफ़पी के अनुसार, ब्राज़ील और मैक्सिको सरकारों ने अपने यहां अमरीकी राजदूतों को तलब किया है. मैक्सिको ने गहन जांच की मांग की है ताकि पता लग सके कि पिछले साल चुनाव से पहले राष्ट्रपति पेना नीएतो के ईमेल की कथित जासूसी के पीछे कौन ज़िम्मेदार है.

जुलाई में ब्राज़ीली समाचार पत्र 'ओ ग्लोबो' ने ख़बर दी थी कि अमरीका ने इस क्षेत्र की फ़ोन कॉल्स और वेब ट्रैफिक रोक दिया था.

हर संवाद पर थी नज़र

ब्रितानी अखबार गॉर्डियन के कॉलमनिस्ट ग्रीनवाल्ड ने ग्लोबो टीवी के न्यूज़ प्रोग्राम 'फेंटास्टिको' पर रविवार को कहा, ''स्नोडेन द्वारा लीक दस्तावेज़ों से पता चलता है कि किस तरह अमरीकी एजेंट ब्राज़ीली राष्ट्रपति के सहायकों के बीच होने वाले संवाद की जासूसी करते थे.''

ब्राज़ील के न्याय मंत्री जोस एडुआर्डो ने कहा, ''अगर यह सही हुआ, तो न केवल अस्वीकार्य होगा बल्कि इसे देश की संप्रभुता पर हमला भी माना जाएगा.''

Image caption ब्राज़ीली राष्ट्रपति दीलमा रॉसेफ़ और मैक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना निएतो

एक रिपोर्ट के अनुसार ब्राज़ीली राष्ट्रपति रॉसेफ जब भी इंटरनेट पर ऑनलाइन होती थीं, तब एनएसए एक प्रोग्राम के ज़रिए उन पर नज़र रखता था.

ब्राज़ीली राष्ट्रपति कार्यालय का कहना है कि इस बारे में चर्चा के लिए शीर्ष मंत्रियों की मीटिंग बुलाई जा रही है.

साओ पाउलो में बीबीसी संवाददाता जूलिया कारनेरियो ने कहा कि ब्राज़ील में शक जताया जा रहा है कि अमरीका व्यावसायिक हितों के चलते सरकारी संचारतंत्र की जासूसी कर रहा है.

टल सकता है रॉसेफ़ का दौरा

संवाददाता का कहना है कि ये संवेदनशील खुलासा ऐसे समय हुआ, जबकि रॉसेफ़ अक्टूबर में पहली आधिकारिक यात्रा पर अमरीका जाने वाली हैं.

राष्ट्रपति ओबामा द्वारा इस साल किसी विदेशी नेता को प्रस्तावित यह अकेली आधिकारिक यात्रा है.

वैसे ब्राज़ीली अधिकारियों ने ये स्पष्ट नहीं किया है कि क्या इन आरोपों के बाद रॉसेफ़ वाशिंगटन की यात्रा टाल भी सकती हैं.

पेना पर थी लंबे समय से नजर

रिपोर्ट में ये आरोप भी लगाया गया है कि मैक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना निएतो के पिछले साल जुलाई में चुने जाने से पहले से एनएसए उनके संचार पर नजर रख रहा था.

पत्रकार ग्रीनवाल्ड का कहना है कि जून 2012 के दस्तावेज़ बताते हैं कि पेना निएतो के ईमेल पढ़े जाते थे. ग्रीनवाल्ड को ये दस्तावेज़ पूर्व अमरीकी ख़ुफ़िया विश्लेषक एडवर्ड स्नोडेन ने उपलब्ध कराए, जिसे ब्रिटेन और अमरीकी मीडिया में अमरीकी गुप्त जानकारियां लीक कराने के बाद रूस ने अस्थायी तौर पर शरण दे रखी है.

ग्रीनवाल्ड पहले ऐसे पत्रकार थे, जिन्होंने छह जून को स्नोडेन द्वारा लीक दस्तावेज़ों का खुलासा किया था. तब से वह अमरीका और ब्रिटेन के अधिकारियों की निगरानी पर ख़बरों की सीरीज़ लिख चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार