सीरिया: वो छह रास्ते जिनसे ओबामा अमरीकी संसद को मनाएंगे

बराक ओबामा
Image caption अमरीका सीरिया पर सीमित सैन्य कार्रवाई की योजना बना रहा है

सीरिया पर सीमित कार्रवाई के लिए अमरीकी राष्ट्रपति को अगले कुछ दिनों में अमरीकी कांग्रेस से इजाज़त लेनी है.

ओबामा की योजना को सीनेट की कमेटी की मंज़ूरी मिली है लेकिन अब भी दो सीनेट और हाउस ऑफ रिप्रज़टेटिव में मतदान बाकी हैं.

कुछ लोगों का मानना है कि अगले हफ्ते होने वाले दो मतदानों में सिर्फ़ सीरिया या उस क्षेत्र का ही भविष्य नहीं तय होगा.

राष्ट्रपति का राजनीतिक भविष्य भी 100 सीनेटरों और हाउस ऑफ रिप्रज़ंटेटिव के 435 सदस्यों के हाथ में है, जिनसे उन्होंने सीरिया पर सीमित सैन्य कार्रवाई के लिए समर्थन मांगा है.

वहीं कुछ लोगों को संदेह है कि 21 अगस्त के कथित रासायनिक हमले पर जिस तरह से प्रतिक्रिया हो रही है, वह अमरीका के हित में नहीं है.

तो ओबामा कांग्रेस को मनाने के लिए क्या कर रहे हैं?

'दिल से अपील'

Image caption हमले पर अमरीकी कांग्रेस के दोनों सदनों में मतदान होगा.

व्हाइट हाउस के लॉन से राष्ट्रपति ओबामा ने न केवल कांग्रेस बल्कि इस मामले में बहुत हद तक विभाजित अमरीका और पूरी दुनिया से सीधे अपील की थी.

उन्होंने कहा, ''दस दिन पहले दुनिया ने देखा कि सीरिया में किस तरह 21वीं सदी के सबसे बुरे रासायनिक हमले में औरतों और बच्चों का नरसंहार किया गया. लोगों का कहना है कि 1,000 लोगों की हत्या कर दी गई. इनमें सैकड़ों बच्चे थे, युवा लड़कों और लड़कियों को उनकी ही सरकार ने ज़हरीली गैस से मार डाला. यह हमला मानवीय गरिमा पर हमला था."

राष्ट्रपति के दफ्तर में मुलाकात

व्हाइट हाउस में सोमवार को हुई एक निजी बैठक के बाद सीनेटर जॉन मक्केन और लिंडसे ग्राहम राष्ट्रपति के साथ आ गए.

ये दोनों उन तथाकथित रिपब्लिकन कट्टरपंथियों का नेतृत्व करते हैं, जो मानते हैं कि सीमित हमले पर्याप्त नहीं हैं. लेकिन उनके बयानों से थोड़ा संदेह पैदा हुआ है.

मंगलवार को ओबामा को हाउस ऑफ रिप्रज़ंटेटिव के अध्यक्ष जॉन बोहनर के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा समितियों के सदस्यों और दूसरे अध्यक्षों का समर्थन मिला.

रिपब्लिकन पार्टी के नेता बोहनर ने पहली बार सार्वजनिक रूप से ओबामा का समर्थन किया.

Image caption कार्रवाई का विरोध करने वाले कहते हैं कि संयुक्त राष्ट्र के हथियार विशेषज्ञों की रिपोर्ट का इंतज़ार होना चाहिए.

वर्जिनिया विश्वविद्यालय के राजनीति केंद्र के निदेशक लैरी साबाटो ने आने वाले दिनों में राष्ट्रपति कार्यालय में ऐसे और लोगों के पहुंचने की संभावना जताई है जो हिचकते रहे हैं.

'विरोधियों को बाहर करो'

सीरिया पर होने वाला मतदान मुक्त रूप से होगा और रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक, दोनों पार्टियों का नेतृ्त्व ओबामा का समर्थन करेगा. लेकिन अभी भी वे व्हीप जारी करने पर काम कर रहे हैं.

लैरी साबाटो कहते हैं, ''डेमोक्रेटिक व्हिप राष्ट्रपति का समर्थन करेगा. रिपब्लिकन व्हिप उनके नेताओं को संख्या बताएगा, क्योंकि बोहनर और कैंटर इस बात पर और जानकारी चाहते हैं कि वे किसे झुकाना चाहते हैं.''

वो कहते हैं, ''वे कुछ लोगों को (जो हमले के ख़िलाफ़ मतदान कर सकते हैं.) मतदान के दौरान कॉफ़ी पीने के लिए या टहलने के लिए बाहर भेज सकते हैं.''

'कुछ ख़रीद-फरोख़्त'

कांग्रेस के सदस्यों को उनका विचार बदलने के लिए कुछ समझदारी भरे प्रलोभन दिए जा सकते हैं.

कैलिफ़ॉर्निया यूनिवर्सिटी में राजनीतिशास्त्र पढ़ाने वाले शॉन बॉवलर कहते हैं, ''ये सब सीरिया केंद्रित हो सकते हैं, जैसे मानवीय सहायता पहुँचाने का समझौता या कार्रवाई को कुछ समय के लिए सीमित कर देना.''

वो कहते हैं, ''व्यापक इनाम 2014 में होने वाले मध्यावधि चुनाव के दौरान, जो बाइडेन के चुनाव अभियान के लिए धन जुटाने के लिए रात्रिभोज या टेलीविज़न अधिकार ख़रीदने के रूप में हो सकते हैं.'' वो कहते हैं, शायद यह भी हो कि आप अभी हमारा विरोध करें. लेकिन 2014 में हमसे मदद की उम्मीद न करें.

सदन की सैन्य सेवा समिति के प्रमुख रिपब्लिकन नेता मैकियॉन ने कहा कि इस मसले पर उनके विकल्प अभी भी खुले हुए हैं, उन्होंने सरकार से सैन्य ख़र्चों में कटौती की अपील की है.

'राष्ट्रपति से बात करिए'

एक वरिष्ठ अधिकारी ने अमरीकी कांग्रेस को राष्ट्रपति के संदेश की रणनीति को "सराबोर करने" के रूप में किया है, कांग्रेस के सदस्यों पर ब्रीफ़िंग और टेलीफ़ोन कॉल की बौछार कर दो.

साबाटो कहते हैं कि डेमोक्रेटिक पार्टी के हिचकिचाने वाले सदस्यों के लिए बुनियादी संदेश सरल होगा, अपने राष्ट्रपति को शक्तिहीन मत बनाओ.

वो कहते हैं कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कांग्रेस ने अब तक की सबसे पक्षपातपूर्ण अपील की है.

राष्ट्रपति बराक ओबामा, उपराष्ट्रपति जो बाइडेन और व्हॉइट हाउस के चीफ़ ऑफ़ स्टाफ़ डेनिस मैकडोनो ने रविवार और सोमवार को व्यक्तिगत रूप से नेताओं को टेलीफ़ोन किया.

विदेश मंत्री जॉन केरी ने भी हाउस ऑफ रिप्रज़ेंटेटिव के सौ से ज़्यादा डेमोक्रेट सदस्यों और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ कांफ्रेस कॉल की.

उन्होंने उनके साथ ख़ुफ़िया जानकारी साझा की.

'पक्ष रखें'

विदेश मंत्री जॉन केरी, रक्षा मंत्री चक हेगल और ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ जनरल मार्टिन डेंपसे ने मंगलवार को सीनेट की विदेश मामलों की समिति के सामने अपना पक्ष रखा.

कैरी ने कहा, ''यह अलग-अलग रहने का समय नहीं है. यह नरसंहार का तमाशबीन बने रहने का समय नहीं है. न तो हमारा देश और न हमारा ज़मीर ही इस चुप्पी की क़ीमत अदा कर पाएगा.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार