मोहब्बत पर मंदी की मार

  • 17 सितंबर 2013
कैसानोवा, इटली, मिलान, पुरुष

आर्थिक गिरावट की एक मार अब तक सुर्ख़ियों में नहीं आई थी, ये मार पड़ी है इटली के पुरुषों के अंदाज़ पर, कभी शाहख़र्ची से महिलाओं को लुभाने के लिए चर्चित पुरुषों को अब महिलाओं को लुभाने में संघर्ष करना पड़ रहा है

एक आइसक्रीम पार्लर पर लगी क़तार में दो कारोबारी बेचैनी से कांप रहे थे और स्कूल जाने वाले बच्चों की तरह आइसक्रीम के कई रंगों को देखकर लार टपका रहे थे.

जब उनकी बारी आई तो दोनों के चेहरे थोड़े उतर गए, थोड़े शर्मिंदा भी दिखे जब उन्होंने महिला वेटर से धीमी आवाज़ में कहा, "थोड़ी आइसक्रीम."

दोनों में से थोड़े लंबे दिख रहे शख्स ने अपने चॉकलेट आइसक्रीम स्कूप की ओर देखते हुए रूखे ढंग से कहा, "हां, यहां हर चीज़ कम हो गई है."

उन्होंने कहा, "अब किसी चीज़ के लिए पैसे नहीं हैं - औरतों के लिए भी नहीं. इश्क़बाज़ लोगों के दिन पूरे हो गए हैं. सिर्फ़ एक महिला - और उसके ख़र्च उठाना भी मुश्किल हो गया है."

Image caption एक सर्वे के मुताबिक इटली में पुरुष अब महिलाओं को लुभाने पर खर्च कम करते हैं.

उनके साथी ने अपने कप को खुरचते हुए मुझे एक मुस्कुराहट दी.

उन्होंने कहा, "अच्छा वक्त ख़त्म हो चुका है." और फिर कंधे उचकाते हुए फुसफुसाते हुए कहा, "मैं कभी कैसानोवा (इश्क़बाज़) था."

आर्थिक संकट ने इटली के पुरुषों को वहां चोट पहुंचाई है जहां सबसे ज़्यादा दर्द होता है.

'दोहरे जीवन का ख़र्च'

मंदी से जूझ रहे इटली में बेरोज़गारी की दर 12% से ऊपर है और ख़र्चे बढ़ते जा रहे हैं, दक्षिण यूरोप के प्रेमियों को अपनी इच्छाओं को क़ाबू में रखना पड़ रहा है.

पारंपरिक रूप से उनकी प्रेमिकाएं होती थीं, गुप्त रूप से एक ऐसे घर में जिसके सभी ख़र्चे चुका दिए गए हों, लेकिन फर और गहने अब इतिहास की बात हो चुकी है.

इटली की पत्रिका पैनोरामा की पत्रकार टेरी मरोक्को हंसते हुए कहती हैं, "दोहरे जीवन का ख़र्च आज कौन उठा सकता है? इस बारे में सोचें - दो क्रिसमस, दो घर, दो डिनर और दो छुट्टियां - ये असंभव है."

Image caption इटली में कई पुरुष अब डेट पर पैसे बचाने के लिए खाना खाने की जगह कॉफी पीना पसंद करते हैं

वो एक क़िस्सा याद करते हुए कहती हैं, "इटली में पुरुषों की मुश्किलें इतनी बढ़ गई हैं कि उन्हें अपनी प्रेमिकाओं को बिल साझा करने को कहना पड़ रहा है - मैं एक महिला को जानती हूं जिन्हें उनके प्रेमी एक होटल में लेकर गए थे - लेकिन जब वो निकले तो उनके प्रेमी ने कहा, 'क्या हम बिल आधा-आधा बांट लें?'"

इटली की कंपनी सीडेट की मैरीएंजेला शिमिएंती कहती हैं, "इटली के पुरुष अब कम रुमानी और कम सभ्य हैं."

वो शिकायत करती हैं, "आर्थिक संकट से पहले, एक पुरुष महिला को डिनर पर ले जाता था, उसे फूल देता था इससे पहले कि वो..." वो धीरे-धीरे चुप हो जाती हैं.

फिर कहती हैं, "अब तो सिर्फ़ कॉफ़ी पर बुलाते हैं या किसी पार्क में घूम लेते हैं".

ज़्यादा उम्र में मुश्किल

मिलान में अपने आलीशान अपार्टमेंट में पुरुषों की यौन समस्याओं की विशेषज्ञ मनोचिकित्सक रॉबर्ता रिबेली निराश हो कर कहती हैं, "इटली के बूढ़े पुरुषों के लिए धन की अचानक कमी एक त्रासदी है."

वो कहती हैं, "युवा ढल सकते हैं - वो अपने चेहरे का इस्तेमाल कर किसी महिला का दिल जीत सकते हैं लेकिन किसी ऐसे पुरुष के लिए जो पहले ही हार्मोन संबंधी समस्या से जूझ रहा है ये बड़ा मुश्किल है."

उनका कहना है, "पुराने प्रेमियों के लिए एक सस्ता विकल्प है, इंटरनेट पर थोड़ी रक़म में अच्छी दोस्त मिल जाती है. हां, वो वेश्या होती हैं लेकिन दोस्त बन सकती हैं और न फर और न गहने की ज़रूरत होती है."

वो सिर हिलाते हुए कहती हैं, "हां, ये रास्ता हो सकता है - वियाग्रा की मदद से."

मिलान शहर के केंद्र में काम का वक्त ख़त्म हो चुका है और कॉफ़ीघर में बैठे पुरुष अपनी पसंदीदा शराब का मज़ा उठाते हुए आसपास की महिलाओं वाली टेबलों पर नज़र डालते हैं.

आंद्रिया और फिलिपो अपने दोस्त जैकापो की डींगें सुन रहे हैं, जैकापो ने डिज़ाइनर टी-शर्ट और फ़ौजियों की तरह की पेंट पहनी है.

फिलिपो मुझे कहते हैं, "वो एक तेल कंपनी के लिए काम करते हैं, उनकी हर देश में एक प्रेमिका है लेकिन ये सस्ता है क्योंकि वो दो रात से ज़्यादा नहीं रुकते और उन्हें तोहफ़े नहीं ख़रीदने होते."

मैं उनसे सहानुभूतिपूर्वक पूछती हूं, "तो आपकी सिर्फ़ एक प्रेमिका है?"

वो जवाब देते हैं, "हां, मुझे ज़्यादा तनख़्वाह नहीं मिलती..."

दूर कहीं देखते हुए वो उम्मीद से भरा जवाब देते हैं, "लेकिन हो सकता है कि क्रिसमस पर मुझे बोनस मिले?"

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार