दो सीरियाई विद्रोही गुट युद्धविराम को राजी

बीबीसी हिन्दी, बीबीसी हिन्दी न्यूज़
Image caption सीरिया के दो विद्रोही समूहों ने एज़ाज़ कस्बे में समझौता किया है

दो सीरियाई विद्रोही समूह एज़ाज़ कस्बे में युद्धविराम के लिए सहमत हो गए हैं.

अल क़ायदा से जुड़े 'इराक़ और सीरिया के इस्लामी राज्य' (ईएसआईएस) ने बुधवार को पश्चिम समर्थक सीरियाई आर्मी को हराकर उत्तरी कस्बे पर कब्ज़ा कर लिया था.

इन दो समूहों के बीच चल रहे घमासान ने युद्ध के अंदर एक और युद्ध की आशंकाओं को बढ़ा दिया है.

तुर्की और सीरिया की सीमा पर मौजूद बीबीसी संवाददाता पॉल वुड का कहना है कि दोनों पक्ष कैदियों और संपत्तियों की अदला-बदली पर सहमत हो गए हैं.

उन्होंने कहा कि ये स्पष्ट नहीं है कि इस युद्धविराम का देश में इन दोनों समूहों के बीच चल रही झड़पों पर क्या असर पड़ेगा.

कोई मज़बूत स्थिति में नहीं

Image caption सीरियाई विद्रोही भी अब मज़बूत स्थिति में नहीं

विश्लेषकों का कहना है कि अगर फ्री सीरियाई आर्मी इस्लामवादियों से ख़ुद को साफ़ तौर पर अलग कर ले तो अमरीका और अन्य पश्चिमी ताकतें उसका साथ दे सकती हैं.

वहीं सीरियाई उप प्रधानमंत्री कादरी जमील का कहना है कि गृह युद्ध अवरोध की स्थिति में पहुंच गया है क्योंकि न तो सरकारी सैन्य बल और न ही विद्रोही जीतने के लिए पर्याप्त मज़बूत स्थिति में हैं.

उन्होंने ब्रिटेन के गॉर्डियन समाचार पत्र से कहा कि जिनेवा में होने वाली शांति वार्ता में दमिश्क सैन्य विरोधियों से युद्धविराम की अपील करेगा.

जमील ने गॉर्डियन से कहा कि सीरियाई अर्थव्यवस्था वर्ष 2011 की शुरुआत से चल रहे गृह युद्ध के चलते विनाशकारी नुकसान से गुज़र रही है.

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, संघर्ष के चलते एक लाख से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं और लाखों लोग या तो देश छोड़कर जा चुके हैं या फिर बेघर हो चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार