स्पेन में घड़ियों को एक घंटा 'खिसकाने की तैयारी'

स्पेन में सयम बदलने की तैयारी
Image caption स्पेन के संसदीय आयोग का कहना है कि स्पेन की घडियों को एक घंटा पीछे करने की जरूरत है

स्पेन की संसद में ऐसे प्रस्तावित कानून पर चर्चा होनी है जिसके तहत देश के समय में एक घंटे का बदलाव किया जाएगा.

समय में बदलाव की ये कोशिश एक रिपोर्ट के बाद हो रही है जिसके मुताबिक इस बदलाव से स्पेन के लोगों के खाने, सोने और काम से जुड़ी आदतें सुधरेंगी.

संसदीय आयोग की रिपोर्ट कहती है, “स्पेन पिछले 71 साल से भी ज्यादा समय से सही टाइम जोन में नहीं है.”

वर्ष 1942 में स्पेन के तानाशाह जनरल फ्रांको ने स्पेन को भी केंद्रीय यूरोपीय समय (सीईटी) टाइम जोन में शामिल कर दिया ताकि नाजी जर्मनी का अनुसरण कर सके.

ये रिपोर्ट कहती है कि स्पेन को भी उसी टाइम जोन में होना चाहिए जिसमें ब्रिटेन और पुर्तगाल हैं.

बदलाव की जरूरत

स्पेन यूरोप के पश्चिमी छोर पर है जो गर्मियों में जीएमटी से एक घंटा और गर्मियों में दो घंटे आगे है.

आयोग का कहना है, “हम विश्व स्वास्थ्य संगठन की सिफारिशों से कम से कम एक घंटा कम सोते हैं.”

इस सबका का असर हमारी उत्पादकता पर पड़ता है और इससे अनुपस्थिति, तनाव, दुर्घटनाएं और स्कूल छोड़ने की दर बढ़ती है.

रिपोर्ट कहती है कि स्पेन के लोग बाकी पड़ोसी देशों के मुकाबले एक घंटा देरी से सोते हैं. “हमारी दिनचर्या घड़ी से कम और सूर्य से ज्यादा निर्धारित होती है. सूर्य के अनुसार हम दोपहर को एक बजे खाना खाते हैं और शाम का खाना रात आठ बजे होता है, लेकिन घड़ी के मुताबिक उस वक्त दोपहर के तीन और रात के दस बज रहे होते हैं.”

आयोग का कहना है कि घड़ियों को मौजूदा समय से एक घंटा पीछा करने से स्पेन कई मायनों में यूरोप के अनुरूप हो जाएगा.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार