क्या औद्योगिक जासूसी का शिकार है ब्राज़ील?

  • 17 अक्तूबर 2013
Image caption एनएसए की ज़ासूसी के बारे में खुलासे से पहले दोनों देशों के रिश्ते बेहतर थे.

अमरीकी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) के लिए काम करने वाले एडवर्ड स्नोडेन द्वारा सितंबर में जारी दस्तावेजों में कहा गया था कि एनएसए ने ब्राज़ील की सबसे बड़ी पेट्रोलियम कंपनी पेट्रोब्रास की जासूसी की थी.

इन आरोपों के बाद ब्राज़ील में काफी हंगामा हुआ था और इस कारण राष्ट्रपति रॉसेफको अपनी वाशिंगटन यात्रा रद्द करनी पड़ी थी.

ब्राज़ील के टेलीविज़न चैनल टीवी ग्लोबो पर इस घटना को प्रसारित किए जाने के एक महीने बाद भी अमरीका जासूसी कार्यक्रम के कारणों के बारे में बताने में सफल नहीं हुआ.

रियो में रहने वाले एक अमरीकी पत्रकार ग्लेन ग्रीनवाल्ड के साथ मिलकर तैयार की गई टीवी ग्लोबो की रिर्पोट में सवाल उठाया गया है कि अमरीका संभवतः ब्राज़ील में औद्योगिक ज़ासूसी में सक्रिय था. हालांकि इन आरोपों को अमरीका ने औपचारिक रूप से ख़ारिज़ किया है.

पेट्रोब्रास ब्राज़ील की सबसे बड़ी कंपनी है और इससे सरकार को भारी राजस्व की प्राप्ति होती है. यह ब्राज़ील के गहरे समुद्र में तेल क्षेत्रों को विकसित कर रही है.

21 अक्टूबर को ब्राज़ील इस तेल क्षेत्रों में से एक सबसे बड़े क्षेत्र लिब्रा के विकास के लिए अंतरराष्ट्रीय कंपनियों को ठेका देने वाला है.

ऐसे समय में एनएसए पर औद्योगिक ज़ासूसी का आरोप लगना और विशेषकर पेट्रोब्रास को निशाना बनाने की बात सामने आना, मामले को काफी संवेदनशील बना देता है.

ज़ासूसी से नाराज़

हालांकि साल 2006 से 2009 के बीच व्हाइट हाउस के गोपनीयता और नागरिक अधिकारों के निदेशक रहे टिमोथी एडगर का कहना है कि जिन नियमों के तहत एनएसए का संचालन किया जाता है उसमें ही ब्राज़ील जैसे देश की ज़ासूसी के आधार का जिक्र किया गया है.

उन्होंने बीबीसी से कहा, ''मैं आपसे कह सकता हूं कि अमरीका औद्योगिक जासूसी नहीं करता. यदि इसके पीछे सुरक्षा से जुड़ा कोई मुद्दा है तभी ब्राज़ील से खुफ़िया जानकारी इकट्ठा की जाएगी.''

उन्होंने कहा कि यदि ज़ासूसी औद्योगिक उद्देश्य से की गई है तो यह अमरीकी नियमों का उल्लंघन है.

Image caption ब्राजील की राष्ट्रपति रॉसेफ ने 23 अक्टूबर से होने वाली अपनी अमरीका यात्रा रद्द कर दी है.

विश्लेषकों का मानना है कि ब्राज़ील अपने भू-राजनीति महत्व को बढ़ाने के लिए अपने ऊर्जा क्षेत्र का इस्तेमाल कर रहा है. इस प्रक्रिया में ब्राज़ील ने सीरिया युद्ध और ईरान के परमाणु कार्यक्रम को दबाने के मसले पर अक्सर अमरीकी हितों को प्रभावित किया.

इतना सब होने के बाद भी अमरीकी ख़ुफ़िया विभाग ब्राज़ील की राष्ट्रपति रॉसेफ सहित अन्य इलेक्ट्रॉनिक संचार की निगरानी करने के पीछे के कारणों के बारे में अपना मुंह नहीं खोला है.

एनएसए की ज़ासूसी से नाराज़ ब्राज़ील की राष्ट्रपति ने 23 अक्टूबर से होने वाली अपनी अमरीका यात्रा रद्द कर दी है. साथ ही उन्होंने पिछले माह संयुक्त राष्ट्र की आम सभा में भी अमरीका की कड़ी आलोचना की थी.

इसके बाद अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एनएसए के कामकाज की प्रक्रियाओं की समीक्षा करने की बात कही थी.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार