कार चलाने पर 60 सऊदी महिलाओं पर जुर्माना

सऊदी अरब में महिला ड्राइविंग

सऊदी अरब की पुलिस ने ड्राइविंग करने के कारण 60 महिलाओं पर जुर्माना लगा दिया है और उन्हें दोबारा ड्राइविंग न करने की चेतावनी देते हुए अपनी कार की चाभियां घर के पुरुषों को सौंपने को कहा है.

हर महिला से जुर्माने के बतौर 80 डॉलर की धनराशि वसूली गई है. सऊदी अरब में 1990 से महिलाओं की ड्राइविंग पर रोक है.

शनिवार को महिलाओं ने इसके ख़िलाफ़ अपना विरोध दर्ज कराते हुए इंटरनेट पर ऐसे वीडियो पोस्ट किए थे, जिनमें वे ख़ुद ड्राइविंग करते दिखाई दे रही हैं.

सऊदी अरब के कार्यकर्ताओं का कहना है कि 60 से ज़्यादा महिलाओं ने सरकारी चेतावनी का उल्लंघन कर महिला ड्राइवरों पर लगे प्रतिबंध के ख़िलाफ़ विरोध में हिस्सा लिया है.

विरोध

देश की राजधानी रियाद में कई लोगों ने महिलाओं के ड्राइविंग करने पर आपत्ति जताई.

अब्दुल्ला अल दाखील का कहना था, "ड्राइविंग के लिए ये प्रदर्शन और अभियान क्यों? महिलाओं को ड्राइविंग की ज़रूरत क्या है? स्कूल वे निजी ड्राइवर के साथ जाती हैं और निजी ड्राइवर के साथ घर लौटती हैं और वे जहां जाना चाहें निजी ड्राइवर के साथ आ-जा सकती हैं. ड्राइविंग की कोई ज़रूरत ही नहीं दिखती."

कई लोग महिलाओं की ड्राइविंग का ये कहकर भी विरोध करते हैं कि इससे ट्रैफ़िक जाम की समस्या पैदा होगी. ख़ालेद भी इन्हीं में एक हैं.

ख़ालेद कहते हैं, "आप रियाद में ट्रैफ़िक जाम देख ही रहे हैं. विदेशी कामगारों के अलावा हम सुबह काम पर जाते हुए लंबे जाम का सामना करते हैं. ऐसे में अगर महिलाएं भी ड्राइविंग करेंगी तो क्या स्थिति होगी?"

सऊदी अरब में महिलाएं काफ़ी समय से कार ड्राइविंग का हक़ दिए जाने की मांग कर रही हैं. मगर सऊदी प्रशासन और समाज इसके लिए तैयार नहीं.

अब कुछ सऊदी महिलाओं ने मांग रखी है कि उन्हें भी पुरुषों की तरह ड्राइविंग का हक़ मिलना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार