स्टीव जॉब्स का घर बना ऐतिहासिक धरोहर

  • 31 अक्तूबर 2013
स्टीव जॉब्स
Image caption ऐपल 1980 में सामने आया और स्टीव जॉब्स करोड़पति हो गए.

ऐपल के सह-संस्थापक स्टीव जॉब्स के घर को ऐतिहासिक धरोहर घोषित कर दिया गया है.

कैलीफ़ोर्निया स्थित जिस घर से स्टीव जॉब्स ने ऐपल कंप्यूटर की शुरुआत की थी, उसे सिलिकॉन वैली के इतिहास आयोग ने ऐतिहासिक स्थल की संज्ञा दी है.

लॉस आल्तोस स्थित उनके इस घर की संरचना और बनावट को यथावत रखा जाएगा. इसमें किसी फेरबदल की स्थिति में आयोग निरीक्षण कर सकेगा.

स्टीव जॉब्स ने एपल कंपनी की बुनियाद अप्रैल 1976 में रखी. साल 2011 में 56 वर्ष की उम्र में उनकी मृत्यु हो गई.

(पढ़ेंः माँ-बाप ने छोड़ा पर सफलता ने अपनाया)

घर बना ऐतिहासिक धरोहर

Image caption स्टीव जॉब्स के इस घर को ऐतिहासिक धरोहर की मान्यता दी गई है.

उनकी बहन घर की वर्तमान मालकिन हैं. उन्होंने स्टीव जॉब्स के घर को ऐतिहासिक स्थल घोषित किए जाने के फ़ैसले का विरोध नहीं किया. यह बात लॉस ऑल्तोस के अधिकारियों ने बीबीसी को बताई.

घर को ऐतिहासिक धरोहर घोषित करने का फ़ैसला सभी अधिकारियों की सहमति से लिया गया. हालांकि इस दौरान आयोग के एक अधिकारी उपस्थित नहीं थे.

आयोग के कर्मचारी संपर्क अधिकारी ज़ैकरे डहल ने बीबीसी से बात करते हुए कहा, "इस निर्णय पर समाज के लोग गर्व महसूस कर सकते हैं."

स्टीव जॉब्स, स्टीव वोज़नियाकी और ऐपल कंपनी की पहली टीम के लोगों ने मिलकर सिलिकन वैली के गराज में ऐपल का 100 एपल आई कम्प्यूटर बनाया था. इसके बाद कंपनी क्यूपरटिनों में स्थानांतरित हो गई.

ज़ैकरे डहल ने बताया कि वर्तमान में स्टीव जॉब्स की सौतली माँ उस घर में रहती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटरपर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार