प्राचीन मंदिर पर कंबोडिया के पक्ष में फ़ैसला

प्रीह विहार

संयुक्त राष्ट्र की सर्वोच्च अदालत ने फैसला दिया है कि लंबे समय से विवादित उस ज़मीन पर कंबोडिया का अधिकार होना चाहिए जो कि कंबोडिया और थाईलैंड की सीमा पर स्थित है.

कंबोडिया और थाईलैंड सीमा पर स्थित प्राचीन मंदिर प्रीह विहार के आसपास विवादित ज़मीन पर दोनों देश लंबे समय से अपना अधिकार जताते रहे हैं और इसे लेकर दोनों देशों के बीच कई बार हिंसक झड़पें भी हो चुकी हैं.

पचास साल से ज़्यादा समय पहले अदालत ने मंदिर के संबंध में कंबोडिया के पक्ष में फ़ैसला दिया था लेकिन मंदिर के आसपास का इलाका अभी भी विवादित था.

साल 1962 में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) ने व्यवस्था दी थी कि इस मंदिर पर कंबोडिया का अधिकार रहेगा, लेकिन मंदिर के आसपास की भूमि पर उसने कोई फ़ैसला नहीं सुनाया था.

दोनों देशों के बीच संघर्ष होने के बाद कंबोडिया ने साल 2011 में इस पर स्पष्टीकरण मांगा था. अप्रैल 2011 में हुई हिंसा में कम से कम 18 लोग मारे गए थे और हज़ारों लोग विस्थापित हुए थे.

झड़प

दिसंबर 2011 में दोनों पक्षों के बीच सैनिकों को विवादित जगह से हटाने पर सहमति बनी थी.

हाल ही में थाईलैंड के एक विमान को मंदिर के आसपास की विवादित ज़मीन के ऊपर नीची उड़ान भरते हुए देखा गया था, जिसके बाद थाईलैंड सीमा पर तैनात कंबोडिया की सशस्त्र सेनाओं के प्रमुख ने शनिवार को एक आपात बैठक बुलाई.

इससे पहले, कंबोडिया के क्षेत्रीय कमांडर जनरल स्रे दियूक ने बीबीसी से बातचीत में उम्मीद जताई थी कि सोमवार को आने वाले फ़ैसले के बाद थाई सेना के साथ कोई समस्या नहीं होगी.

उन्होंने कहा कि मंदिर में सैनिकों को तैनात नहीं किया गया है, लेकिन सीमा के आसपास बसे गांवों में राष्ट्रवादी संगठनों के उकसावे से हिंसा की आशंका है.

'द नेशन' अख़बार के मुताबिक़ एक राष्ट्रवादी संगठन थाई पैट्रियॉटिक नेटवर्क ने धमकी दी है कि वह अंतरराष्ट्रीय अदालत के हर फ़ैसले का विरोध करेगा. संगठन ने अदालत से इस मामले को ख़ारिज करने का अनुरोध किया था.

विवाद

यह ज़मीन एक शताब्दी से भी अधिक समय से दोनों देशों के बीच विवाद का कारण बनी हुई है.

मंदिर का मालिकाना हक़ कंबोडिया को दिए जाने से थाईलैंड में काफ़ी नाराज़गी थी, लेकिन कंबोडिया में गृहयुद्ध के कारण यह मामला ठंडा पड़ा रहा. कंबोडिया में गृहयुद्ध 1990 के दशक में समाप्त हुआ.

साल 2008 में कंबोडिया ने जब मंदिर को यूनेस्को की विश्व धरोहरों की सूची में शामिल करने के लिए आवेदन दिया, तो यह मामला एक बार फिर गर्म हो गया.

मंदिर को तो यूनेस्को की विश्व धरोहरों की सूची में शामिल कर लिया गया लेकिन इसने थाईलैंड में राष्ट्रवादी भावनाओं को भड़का दिया. दोनों देशों ने सीमा पर सैनिकों की तैनाती शुरू कर दी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार