इसराइल के जासूस थे हॉलीवुड फ़िल्म निर्माता

  • 27 नवंबर 2013
Arnon Milchan

प्रेटी वुमन और फ़ाइट कलब जैसी मशहूर हॉलीवुड फ़िल्मों के निर्माता आरनन मिलचन ने कहा है कि वो इसराइल के जासूस थे.

आरनन मिलचन ने कहा कि वो इसराइल के परमाणु कार्यक्रम के समर्थन में जासूसी कर रहे थे.

मिलचन का जन्म इसराइल में हुआ था. उन्होंने इसराइल के युवदा नाम के जासूसी कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी.

उनका कहना था कि उनकी नियुक्ति वर्तमान राष्ट्रपति साइमन पेरेस ने की थी जिसके बाद उन्होंने ख़ुफ़िया जानकारी जुटाने की कई मुहिम में हिस्सा लिया.

उनका कहना था, “मैंने यह अपने मुल्क के लिए किया और मुझे इस पर गर्व है.”

‘जान जोखिम में ...’

Image caption इसराइल में जन्मे आरनन मिलचन ने प्रेटी वुमन और फ़ाइट कलब जैसी फ़िल्में बनाई हैं.

68 साल के मिलचन का कहना था कि उनका चयन इसराइल की ब्यूरो ऑफ़ साइंटिफिक रिलेशन ने किया था.

1960 में बनाई गई ख़ुफिया संस्था का काम इसराइल के परमाणु कार्यक्रम के लिए काम करना था.

जब उन्हें इस काम के लिए चुना गया था, तो उस वक़्त मिलचन खाद तैयार करने के कारख़ाने के मालिक थे.

उन्होंने बताया कि उन्होंने रक्षा से जुड़ी और दूसरी तकनीकी जानकारियां हासिल करने में संस्था की मदद की.

मिलचन का कहना था कि एक समय 17 देशों में युवदा की 30 कंपनियां काम कर रही थीं, जो इसराइल के लिए काम करती थीं.

हॉलीवुड में शोहरत

मिलचन ने जासूसी का काम हॉलीवुड में शोहरत हासिल करने के बाद भी जारी रखा.

वो बाद में फ़िल्म कंपनी न्यू रीजेंसी के चेयरमैन भी रहे.

उन्होंने मिस्टर एंड मिसेज़ स्मिथ, एलए कंफिडेंशियल जैसी हिट फिल्मों का निर्माण किया और रोमान पोलांस्की, मार्टिन सॉरसीज़ और ओलिवर स्टोन जैसे मशहूर फ़िल्म निर्देशकों के साथ काम किया.

इंटरव्यू के दौरान मिलचन ने यह भी दावा किया कि ऑस्कर विजेता फिल्म निर्देशक सिडनी पोलॉक ने हथियार ख़रीदने के इसराइल के ख़ुफिया कार्यक्रम में उनकी मदद की थी.

पोलॉक की मृत्यू साल 2008 में हो गई थी.

उन्होंने कहा कि इसराइल की जासूसी के मामले को लेकर हॉलीवुड में अफ़वाहें हमेशा गर्म रहती थीं और उन्होंने उम्मीद जताई कि उनके साक्षात्कार के बाद इस मामले में कुछ बातें साफ़ हुई होंगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार