ड्रोन से दुर्लभ जानवरों पर नजर रख रहा है चीन

  • 15 दिसंबर 2013
याक

ऐसी ख़बरें हैं कि चीन दूर दराज के पर्वतीय इलाकों में जंगली याक की लुप्त हो रही एक प्रजाति पर नजर रखने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर रहा है.

चीन के शिंचियांग प्रांत में के सुदूर पहाड़ी इलाकों पाए जाने वाले याकों की गिनती के लिए वैज्ञानिक मानव रहित विमानों का सहारा ले रहे हैं.

(अब घर घर राशन भी पहुँचाएँगा ड्रोन)

सरकारी समाचार एजेंसी शिनहुआ के मुताबिक इसका उद्देश्य लुप्त हो रहे जंगली याकों के आवास से जुड़ी जानकारियाँ इकट्ठा करना है.

एजेंसी ने बताया कि नवंबर में मानव रहित विमान से इस इलाके में चार उड़ान भरे गए थे. इस दौरान याकों और उनके रहने की जगह की तस्वीरें भी ली गईं.

ड्रोन विमान ने शिंचियांग के इस पर्वतीय इलाके के मौसम से संबंधित जानकारियाँ भी जुटाई.

शिंचियांग प्रांत और बीजिंग नॉर्मल युनिवर्सिटी के जीव वैज्ञानिक जंगली याकों पर किए जा रहे इस शोध कार्यक्रम का संचालन कर रहे हैं.

बेहतर तरीके

माना जा रहा है कि इससे धीरे धीरे लुप्त हो रहे जंगली याकों को संरक्षित करने के बेहतर तरीके खोजे जा सकेंगे.

दशकों तक इन याकों का धड़ल्ले से शिकार होता रहा जिसकी वजह से इनकी संख्य 30 से 50 हज़ार के करीब सिमट कर रह गई है.

(स्टेल्थ ड्रोन का सफल परीक्षण)

एक अनुमान के मुताबिक शिंचियांग प्रांत के एल्टन पर्वत के दूर दराज के इलाकों में 10 हज़ार के करीब याक पाए जाते हैं.

इस इलाके में ये याक सदियों से रह रहे हैं और यहाँ इंसानों या किसी अन्य जानवर की पहुँच लगभग न के बराबर ही रही है.

एल्टन माउंटेन के राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण विभाग के डिप्टी चीफ ज़ैंग शियांग के हवाले से शिनहुआ ने बताया, "ये इलाके इतने दूर हैं कि इन याकों की गतिविधियों और उनके रहने की जगह पर नजर रख पान हमारे स्टाफ़ का पहुँच पाना बहुत मुश्किल है."

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार