मंडेला का इंटरप्रेटर अस्पताल में भर्ती

भारतीय राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और अनुवादक थामसांका जांची

दक्षिण अफ़्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला की स्मृति सभा के दौरान फ़र्ज़ी सांकेतिक भाषा का इस्तेमाल करने के लिए इंटरप्रेटर यानी अनुवादक थामसांका जांची को मनोरोग अस्पताल में भरती कराए जाने की ख़बर है.

जांची पर स्मृति सभा के दौरान उल्टे-सीधे संकेत करने का आरोप है.

स्थानीय मीडिया की ख़बरों में जांची की पत्नी सिज़िवे के हवाले से कहा गया है कि ''हो सकता है कि उनके पति का दिमाग़ी संतुलन बिगड़ गया हो.''

सांकेतिक भाषा के विशेषज्ञों का आरोप है कि पिछले सप्ताह मंडेला की स्मृति सभा के दौरान बधिर दर्शकों के लिए अनुवाद करते वक्त जांची ''झींगों और घोड़ों'' के संकेत कर रहे थे.

'दिमाग़ी संतुलन बिगड़ने का डर'

थामसांका जांची का कहना था कि सभा के दौरान उन्हें स्क्तिज़ोफ्रेनिया का दौरा पड़ा था. ये एक तरह का मनोरोग होता है. उनका दावा था कि वे एक प्रशिक्षित अनुवादक हैं.

दक्षिण अफ़्रीका के विकलांग मंत्रालय की उप मंत्री हेंडिरेट्टा बोगोपाने-ज़ुलु का कहना है कि जिस कंपनी ने जांची को नियुक्त किया था, वो ''ग़ायब'' हो गई है.

जोहान्सबर्ग के द स्टार अख़बार की ख़बर के मुताबिक जांची की पत्नी उन्हें जांच के लिए मंगलवार को जोहान्सबर्ग के नज़दीक एक मनोरोग अस्पताल ले गई थीं जहां सलाह दी गई थी कि जांची को तुरंत भरती करवाना चाहिए.

सिज़िवे जांची के हवाले से अख़बार ने लिखा है, "पिछले कुछ दिन काफ़ी मुश्किलों भरे रहे हैं. हम उनका साथ देते रहे क्योंकि जांची का दिमाग़ी संतुलन बिगड़ सकता था."

पिछले सप्ताह थामसांका ने कहा था कि उन्हें स्मृति सभा वाले दिन चेक-अप के लिए जाना था लेकिन उन्होंने उसे टाल दिया था.

सुरक्षा ख़तरा?

जोहान्सबर्ग के एफ़एनबी स्टेडियम में हुई स्मृति सभा का पूरी दुनिया में सीधा प्रसारण हुआ था जिसमें जांची सभी महत्वपूर्ण नेताओं और शख्सियतों के भाषण का अनुवाद करने उनके साथ स्टेज पर खड़े थे. इनमें अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, दक्षिण अफ़्रीकी राष्ट्रपति जेकब ज़ुमा और नेल्सन मंडेला के नाते-नाती शामिल थे.

जांची ने ग़लत अनुवाद के लिए अपनी स्क्तिज़ोफ्रेनिया की दशा को ज़िम्मेदार ठहराया था. उनका कहना था कि उन्होंने स्टेडियम में परियों को देखा था.

उस वक्त कहा गया था कि दुनिया भर के महत्वपूर्ण राजनेताओं को जांची की स्टेज पर मौजूदगी से ख़तरा था.

लेकिन अमरीकी राष्ट्रपति के कार्यालय, व्हाइट हाउज़, ने उन आशंकाओं से इंकार किया है कि जांची की मौजूदगी से राष्ट्रपति ओबामा को कोई ख़तरा था.

उस वक्त सत्तारूढ़ अफ़्रीकी नेश्नल कांग्रेस ने कहा था कि पार्टी ने थामसांका जांची का पहले भी कई बार अनुवादक के तौर पर इस्तेमाल किया था और पार्टी को ''जांची के काम की गुणवत्ता, योग्यता या फिर उनकी कथित बीमारी के बारे में किसी तरह की शिक़ायत के बारे में जानकारी नहीं थी.''

नेल्सन मंडेला का निधन पांच दिसंबर को हुआ था और उनका अंतिम संस्कार 15 दिसंबर को उनके पैतृक गांव कुनु में हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार