पाकिस्तान: तीन पोलियो कार्यकर्ता मारे गए

पोलियो इमेज कॉपीरइट AP

पाकिस्तान में कराची शहर के दक्षिणी हिस्से में पोलियो टीकाकरण अभियान शुरू होने के एक दिन बाद ही तीन पोलियो कार्यकर्ता मारे गए हैं.

रिपोर्ट के अनुसार क्युमाबाद क्षेत्र में बंदूकधारियों ने एक आदमी और दो महिलाओं को पोलियो बूंद पिलाने के अभियान से जुड़े होने के कारण मौत के घाट उतार दिया.

पोलियो दल के कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने का यह ताज़ा मामला है.

किसी समूह ने इसकी ज़िम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन तालिबान पोलियो योजनाओं का विरोध करते रहे हैं वे इसे अंतरराष्ट्रीय जासूसी के रूप में देखते हैं.

पाकिस्तान उन तीन देशों में से एक है जहां बड़े पैमाने पर पोलियो टीकाकरण अभियान का आतंकवादियों के प्रतिरोध के कारण पोलियो वृद्धि दर वास्तव में चिंताजनक स्थिति में है..

अन्य देशों में नाइजीरिया और अफ़गानिस्तान हैं , लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठनन के अधिकारी इस बात पर ज़ोर देते है कि इन देशों में इस दिशा में प्रगति की जा रही है.

तीन साल में एक भी मामले की सूचना नहीं मिलने के बाद इस महीने की शुरुआत में भारत का पोलियो मुक्त घोषित होना इस रोग के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में एक मील का पत्थर है और इसकी वजह काफ़ी हद तक बड़े पैमाने पर और निरंतर टीकाकरण अभियान है.

लेकिन पाकिस्तान में आतंकवादी इसे मुसलमानों को बाँझ बनाने की पश्चिमी साज़िश मानते हैं इस वजह से वो स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसक अभियान चलाते हैं.

दिसम्बर में पोलियो टीकाकरण दल में काम कर रहे तीन लोगों की उत्तर पश्चिम पाकिस्तान में गोली मारकर हत्या कर दी गई जबकि टीकाकरण योजना को एक प्रमुख धार्मिक समुदाय के मदरसे का समर्थन हासिल है. इसे तालिबान समूहों के मंसूबों पर पानी फिरने के रूप में देखा जा रहा है.

ताज़ा हमला सिंध प्रांत की राजधानी कराची में हुआ है जबकि राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू किए अभी एक दिन ही हुआ था. इसके तहत 76 लाख बच्चों को टीका लगाने की योजना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार