'धार्मिक पुस्तकों में समलैंगिकता की इजाज़त नहीं'

  • 6 फरवरी 2014
आर्कबिशप वेल्बी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption चर्च ऑफ़ इंग्लैंड के आर्कबिशप वेल्बी पाँच दिन के अफ़्रीकी दौरे पर हैं.

यूगांडा में अंग्रेज़ी चर्च के प्रमुख पादरी ने केंटरबरी और यॉर्क के प्रधान पादरियों (आर्कबिशप) के समलैंगिकों को पीड़ित न करने के संबंध में लिखे गए पत्र की आलोचनात्मक प्रतिक्रिया दी है.

यह पत्र दुनियाभर में फैले एंगलिकन चर्च के सभी प्रधान पादरियों को भेजा गया था.

हाल ही में समलैंगिकता विरोधी क़ानून पारित करने वाले देशों यूगांडा और नाइजीरिया के राष्ट्रपतियों को भी यह पत्र भेजा गया था.

यूगांडा के एंगलिकन चर्च के आर्कबिशप स्टैनले त्गाली ने अपने जवाब में कहा है, "धार्मिक पुस्तकों में समलैंगिकता की इजाज़त नहीं है."

उन्होंने लिखा, "मुझे उम्मीद है कि चर्च ऑफ़ इंग्लैंड इस रास्ते से पीछे हटेगा. इससे चर्च ऑफ़ यूगांडा अपने चर्च के साथ संबंध बनाए रख सकेगा."

क़ानूनी बदलाव

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption यूगांडा में समलैंगिक शादियों और सार्वजनिक स्थानों पर समलैंगिकता के प्रदर्शन को प्रतिबंधित कर दिया गया है.

त्गाली ने अपने पत्र में बताया कि यूगांडा में समलैंगिकता विरोधी क़ानून में मौत की सज़ा के प्रावधान को हटा दिया गया है और कई और कठोर प्रावधानों में छूट दी गई है. त्गाली का कहना है कि क़ानून में ये फेरबदल चर्च की सिफ़ारिशों के बाद किए गए हैं.

आर्कबिशप त्गाली ने लिखा, "अपनी यौन इच्छाओं को लेकर असमंजस में फँसे लोगों और समलैंगिकों की मदद के लिए चर्च एक अच्छी जगह है. वे यहाँ आकर मदद पा सकते हैं और ठीक हो सकते हैं."

अपने पत्र में आर्कबिशप जस्टिन वेल्बी और जॉन सेंटामू ने बताया था कि चर्च ऑफ़ इंग्लैंड से समलैंगिकता को लेकर सवाल पूछे जा रहे हैं.

अपने पत्र में उन्होंने लिखा था, "समलैंगिकों को ईश्वर भी प्यार करता है और वे हमारे सम्मान, दोस्ती और मदद के हक़दार हैं."

नाइजीरिया के राष्ट्रपति गुडलक जोनॉथन ने हाल ही में नया क़ानून पारित किया है जिसके तहत समलैंगिक शादियों और सार्वजनिक स्थानों पर समलैंगिकता के प्रदर्शन को प्रतिबंधित कर दिया गया है.

टूटे संबंध

अफ़्रीक़ा के अन्य चर्चों समेत यूगांडा के चर्च ने समलैंगिकता के मुद्दे पर उत्तरी अमरीकी अंग्रेज़ी चर्चों से संबंध तोड़ लिए हैं.

आर्कबिशप त्गाली ने स्पष्ट कर दिया है कि 2018 लेमबेथ सम्मेलन में अमरीका और कनाडा के एंगलिकन पादरियों को आमंत्रित नहीं किया जाएगा.

चर्च ऑफ़ इंग्लैंड में ब्रह्मचारी रहने तक समलैंगिकों को पादरी रहने देते हैं.

आर्कबिशप वेल्बी कह चुके हैं कि कुछ समलैंगिक जोड़े स्थिर, प्यार से भरपूर एक पत्नी के रिश्ते में रहते हैं.

हालांकि उनका ये भी कहना है कि वे सक्रिय समलैंगिकता के प्रति चर्च ऑफ़ इंग्लैंड के विरोध का समर्थन करते हैं.

विश्वव्यापी एंगलिकन समुदाय के मुखिया आर्कबिशप वेल्बी इस समय पाँच दिन के अफ़्रीक़ी दौरे पर हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार