यूरोपीय संघ में भ्रष्टाचार 'चिंताजनक स्तर पर'

यूरोपीय संघ में भ्रष्टाचार इमेज कॉपीरइट PA

यूरोपीय आयोग का कहना है कि यूरोप में भ्रष्टाचार असाधारण तरीके से बढ़ रहा है जिससे वहाँ की अर्थव्यवस्था को हर साल 120 अरब यूरो का घाटा उठाना पड़ रहा है.

यूरोपीय संघ के गृह मामलों की आयुक्त सेसिलिया मामस्ट्रोम ने भ्रष्टाचार की समस्या पर पूरी रिपोर्ट पेश की है. उन्होंने तो ये भी कहा है कि दरअसल ये आँकड़ा '120 करोड़ से कहीं ज़्यादा' है.

स्वीडन के दैनिक अखबार योटेबोर्स-पोस्टेन में वह लिखती हैं कि भ्रष्टाचार के कारण लोकतंत्र जनता के बीच अपना विश्वास खो रहा है. यही नहीं, इससे देश में आर्थिक संसाधनों की भी किल्लत होती जा रही है.

आयोग ने यूरोपीय संघ के 28 सदस्य देशों के अध्ययन के बाद यह रिपोर्ट तैयार की है.

सेसिलिया मामस्ट्रोम लिखती हैं, "हालांकि स्वीडन की गिनती कम समस्या वाले देशों में की जाती है लेकिन यूरोप के अन्य देशों में भ्रष्टाचार आश्चर्यजनक तरीके से बढ़ रहा है."

आयोग का कहना है कि उसने पहली बार इस तरह की रिपोर्ट तैयार की है. रिपोर्ट में आयोग ने भ्रष्टाचार से निपटने के कुछ सुझाव भी पेश किए हैं.

रिपोर्ट के अनुसार यदि यूरोपीय संघ को भ्रष्टाचार से निपटना है तो संस्था की जगह संघ के सभी देश की सरकारों को इस बात की जवाबदेही लेनी होगी.

पारदर्शी और खुला कानून

जालसाज़ी रोकने के लिए यूरोपीय संघ में ओलफ नाम से एक संस्था है. यह एजेंसी उन बेइमानियों और भ्रष्टाचारों पर ध्यान केंद्रित करती है जिनसे यूरोपीय संघ का बजट प्रभावित होता है. मगर इस एजेंसी के संसाधन सीमित हैं.

साल 2011 में ओलफ का बजट मात्र दो करोड़ 35 लाख यूरो था.

भ्रष्टाचार के कारणों के बारे में बताती हुई मामस्ट्रोम कहती हैं कि कुछ देशों में तो सरकारी ख़रीद जालसाज़ी को बढ़ावा देती है, जबकि कहीं पार्टी का वित्त प्रबंधन मुख्य समस्या है, तो किसी देश में भ्रष्टाचार से नगर निकाय बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं.

वह कहती हैं कि कई देशों में तो मरीजों को पर्याप्त चिकित्सकीय सुविधा हासिल करने के लिए भी रिश्वत देनी पड़ रही है.

यूरोपीय संघ की इस रिपोर्ट में दो प्रमुख जनमत सर्वेक्षणों को शामिल किया गया है. इन सर्वेक्षणों में यह संकेत दिया गया है कि यूरोपीय संघ के तीन-चौथाई नागरिक मानते हैं कि उनके देश में भ्रष्टाचार चिंताजनक स्तर पर पहुंच गया है.

यूरोप में कारोबार करने वाले 10 में से चार व्यापारियों ने भ्रष्टाचार को व्यापार की राह में बड़ा रोड़ा बताया है.

संगठित अपराध

इमेज कॉपीरइट
Image caption बुलगारिया यूरोपीय संघ में मौजूद संगठित अपराधों के गढ़ में से एक है.

सर्वेक्षण में शामिल स्वीडन के 18 फीसदी लोग मानते हैं कि वे रिश्वत लेने वाले किसी न किसी व्यक्ति को जानते हैं, जबकि यूरोप में ऐसा दावा औसतन 12 फीसदी लोगों ने किया.

पारदर्शी और खुले कानून की जरूरत पर जोर देते हुए मामस्ट्रोम कहती हैं कि इन निष्कर्षों के बावजूद कोई शक नहीं कि स्वीडन कम भ्रष्टाचार वाले देशों में से एक है. यूरोपीय संघ के दूसरे देशों को स्वीडन से समस्या से निपटने का तरीका सीखना चाहिए.

यूरोप भर में संगठित अपराध समूह का नेटवर्क फैला हुआ है. यूरोपीय संघ पुलिस एजेंसी के अनुसार इसकी संख्या कम से कम 3000 होगी.

यूरोपीय संघ में बुल्गारिया, रोमानिया और इटली संगठित अपराध के खास गढ़ बताए जाते हैं, जबकि यूरोपीय संघ के कई देश रिश्वत और वैट जैसे सफेदपोशों के अपराध से ग्रस्त हैं.

पिछले साल यूरोपोल निदेशक रॉब वेनराइट ने कहा था कि कार्बन क्रेडिट मार्केट में वैट से जुड़ी जालसाजी से यूरोपीय संघ को तकरीबन पाँच अरब यूरो का नुकसान उठाना पड़ा है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार