और मारा ही गया बेचारा जिराफ़

मारियस जिराफ़ इमेज कॉपीरइट AP
Image caption व्यापक अभियान के बावजूद मारियस जिराफ़ को नहीं बचाया जा सका.

कोपेनहेगन चिड़ियाघर में एक युवा जिराफ़ को बचाने की मुहिम नाकाम हो गई है. जिराफ़ को रविवार सुबह मौत दे दी गई.

मारियस नाम के इस दो वर्षीय जिराफ़ को बचाने के लिए हज़ारों लोगों ने एक ऑनलाइन याचिका पर दस्तख़त किए थे. लेकिन चिड़ियाघर प्रशासन ने जिराफ़ को मारने का फ़ैसला लिया.

चिड़याघर का कहना है कि उसके पास कोई विकल्प नहीं था क्योंकि आपसी प्रजनन को रोकना उनका कर्तव्य है.

मारियस को जह़र का इंजेक्शन देने के बजाए बोल्ट गन से मारा गया ताकि माँस ज़हरीला न हो.

जिराफ़ के शव के कुछ हिस्सों का इस्तेमाल शोध के लिए किया जाएगा जबकि बाक़ी को चिड़ियाघर के माँसाहारी जानवरों को खिला दिया जाएगा.

ब्रिटेन के यॉर्कशायर वाइल्डलाइफ़ पार्क में एक अतिरिक्त नर जिराफ़ रखने की जगह और सुविधाएं मौजूद हैं. यह चिड़ियघर भी मारियस को बचाने के प्रयास करने वाले चिड़ियाघरों में शामिल था.

'अनैतिक'

डेनमार्क की जानवरों के लिए काम करने वाली संस्था 'ऑर्गेनाइज़ेशन एगेंस्ट सफ़रिंग ऑफ़ एनिमल्स' से जुड़ी स्टाइन जेनसेन का कहना है कि मारियस को ख़त्म करना कोपेनहेगन चिड़ियाघर का अनैतिक कार्य है.

वे कहती हैं, "यह स्थिति आती ही नहीं. यह दर्शाता है कि चिड़ियाघर ऐसी नैतिक संस्था नहीं है जैसी वे ख़ुद को दिखा रहे हैं. मारियस उनके लिए सिर्फ़ एक बेकार उत्पाद था."

वे कहती हैं, "यह ऐसा चिड़ियाघर है जो अन्य विकल्पों पर विचार करने के बजाए जिराफ़ को मार देने को बेहतर मानता है."

लेकिन चिड़ियाघर के वैज्ञानिक निदेशक बेंग्ट होल्स्ट मारियस को ख़त्म किए जाने का बचाव करते हैं. वे कहते हैं, "चिड़ियाघर में जिराफ़ों का बहुत अच्छा प्रजनन हुआ है. इसलिए अगली नस्ल में सबसे बेहतर जींस भेजने के लिए सबसे अच्छे जींस वाले जिराफ़ को चुना जाता है."

वे कहते हैं कि चिड़ियाघर में जानवरों की संख्या को नियंत्रित रखना एक सही प्रक्रिया है. कोपेनहेगन चिड़ियाघर में हर साल 20 से 30 जानवर मार दिए जाते हैं.

अधिक प्रजनन

होल्स्ट ने बीबीसी से कहा, "आजकल जिराफ़ बहुत अच्छा प्रजनन कर रहे हैं. ऐसे में हमें यह सुनिश्चित करना होता है कि जिन जिराफ़ों को हम रख रहे हैं वे सबसे अच्छे जींस वाले हैं."

उन्होंने कहा कि मारियस को अन्य चिड़ियाघरों में भेजने पर विचार किया गया था लेकिन किसी भी चिड़ियाघर में उसके लिए उपयुक्त जगह नहीं थी. उन्होंने कहा कि यदि कहीं जगह है भी तो उसे जींस के लिहाज़ से अधिक महत्वपूर्ण जिराफ़ के लिए सुरक्षित रखा जाना चाहिए.

उन्होंने यह भी कहा कि मारियस को बचाने के अभियान को कुछ ज़्यादा ही आगे बढ़ा दिया गया है.

मारियस को बचाने की पेशकश करने वाले नीदरलैंड्स के वाइल्डलाइफ़ पार्क के निदेशक रोबर्ट क्रिजफ़ कहते हैं, "मुझे विश्वास नहीं हो रहा है. हमने उसकी जान बचाने की पेशकश की थी. चिड़ियाघरों को अपना काम करने का तरीक़ा बदलने की ज़रूरत है."

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें . आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार