क्राईमिया: 'रूस में शामिल' होने के पक्ष में मतदान

इमेज कॉपीरइट Reuters

यूक्रेन के दक्षिणी क्षेत्र क्राईमिया के सांसदों ने रूसी संघ में शामिल होने के प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया है.

संसद का कहना है कि इस फ़ैसले पर 16 मार्च को जनमत संग्रह कराया जाएगा.

यूक्रेन की अंतरिम सरकार ने इस मतदान को असंवैधानिक क़रार दिया है.

यूक्रेन में रूस समर्थक सरकार के पतन के बाद से ही मुख्यतः रूसी भाषी क्षेत्र क्राईमिया रूस और यूक्रेन के बीच विवाद के केंद्र में हैं.

काईमिया कई दिनों से यूक्रेन के नियंत्रण से करीब-करीब स्वायत्त है. इस क्षेत्र में रूस और रूस-समर्थकों शक्तियों का अघोषित कब्जा रहा है.

क्राईमिया की संसद की घोषणा के बाद यूक्रेन में रूसी सैन्य बल की तैनाती के संभावित जवाब पर चर्चा के लिए यूरोपीय संघ के नेता ब्रसेल्स में एक बैठक कर रहे हैं.

निर्णय

इमेज कॉपीरइट AP

क्राईमिया की संसद ने रूसी गणराज्य के अन्य प्रांतों को मिलने वाले अधिकारों के साथ रूस में शामिल होने का निर्णय लिया है.

रूस के प्रवक्ता दिमित्रि पेस्कोफ़ ने रूस की मीडिया से कहा कि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को क्राईमिया की संसद के फ़ैसले की जानकारी दे दी गई है.

क्राईमिया संसद के सूत्रों ने बीबीसी से कहा कि वो अब काईमिया के रूस का अंग बनने के निवेदन पर रूस के जवाब की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

क्राईमिया की संसद की वेबसाइट पर प्रकाशित घोषणा के अनुसार क्राईमिया में जनमत संग्रह किया जाएगा कि क्या वे "रूसी संघ के सदस्य के नागरिक" के रूप में फिर से रूस का अंग बनना चाहते हैं या वो "यूक्रेन के अंग के रूप में क्राईमिया की वर्तमान स्थिति" को बरक़रार रखना चाहते हैं.

क्राईमिया की इस घोषणा के तत्काल बाद यूक्रेन की अंतरिम सरकार के वित्त मंत्री पावलोफ़ श्रेरेमेता ने कीएफ़ में कहा, "हम इस बात पर विचार नहीं कर रहे हैं कि काईमिया रूस में चला जाता है तो हम क्या करेंगे क्योंकि हम विश्वास है कि यह असंवैधानिक है."

बीबीसी संवाददाता रिचर्ड गैल्पिन के अनुसार क्राईमिया की संसद के इस क़दम से इस क्षेत्र में तनाव बढ़ने की उम्मीद है क्योंकि पश्चिमी देश सभी नेताओं को यूक्रेन और रूस में जुटाने की कोशिश कर रहे हैं. उनकी कोशिश है कि बातचीत करके यूक्रेन पर रूस के पूर्ण हमले को रोका जाए.

इस बीच क्राईमिया में जारी संकट को सुलझाने के लिए रूस और यूक्रेन के विदेश मंत्रियों के बीच पहली सीधी बातचीत करवाने की अमरीका की कोशिश नाकाम हो गई है.

फ़्रांस की राजधानी पेरिस में हो रही एक अंतरराष्ट्रीय बैठक के दौरान रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लवारोफ़ ने यूक्रेनी विदेश मंत्री से मिलने से इनकार कर दिया क्योंकि रूस ने यूक्रेन की अंतरिम सरकार को मान्यता नहीं दी है.

लेकिन लवारोफ़ ने अमरीकी विदेश मंत्री जॉन कैरी और अन्य यूरोपीय विदेश मंत्रियों के साथ व्यापक बातचीत की. बुधवार को पेरिस में लेबनान पर बैठक के दौरान कैरी ने रूस, ब्रिटेन, जर्मनी और फ्रांस के विदेश मंत्रियों से मुलाक़ात की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार