दूसरे हफ़्ते भी लापता विमान की तलाश जारी

मलेशिया विमान इमेज कॉपीरइट AFP

मलेशिया एयरलाइंस के एक एमएच370 विमान को लापता हुए हफ़्ता बीत चुका है. इस हवाई जहाज़ की खोज अभियान में अब तक 12 देश शामिल हो चुके हैं, लेकिन अभी तक इसका कोई सुराग़ नहीं मिल पा रहा है.

इस हवाई जहाज़ में 239 यात्री सफ़र कर रहे थे.

लापता विमान की खोज के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर का खोज अभियान जारी है और इस खोज का दायरा मलय प्रायद्वीप के पश्चिमी क्षेत्र में केंद्रित है.

अमरीका ने बंगाल की खाड़ी, अंडमान सागर और हिंद महासागर के कुछ हिस्सों में इस लापता विमान की खोज करने के लिए नौसेना का एक जहाज़ और एक निगरानी विमान भेजा है.

ऐसी सूचनाएं मिल रही हैं कि लापता होने के बाद भी विमान संभवतः पांच घंटे तक उड़ता रहा था. जांचकर्ता यह अंदाज़ा लगा रहे हैं कि लापता विमान रडार पर दर्ज अपनी आख़िरी स्थिति के बाद भी 1600 किलोमीटर से अधिक दूरी तक उड़ा होगा.

बीबीसी को यह जानकारी मिली है कि कुआलालंपुर से बीजिंग के लिए उड़ान भरने वाला यह विमान रडार से संपर्क टूटने के बाद भी एक उपग्रह प्रणाली को स्वत: संकेत भेज रहा था.

नियंत्रण कक्ष से इस विमान का आख़िरी बार संपर्क तब हुआ था जब यह विमान मलेशिया से पूर्व में दक्षिणी चीन सागर की तरफ से गुज़र रहा था.

बीबीसी को यह सूचना मिली है कि लंदन स्थित दूरसंचार कंपनी इनमारसैट द्वारा संचालित एक उपग्रह को एमएच 370 विमान से स्वत: संकेत तब मिले थे जब विमान को लापता हुए पांच घंटे बीत चुके थे.

तलाश जारी

बीबीसी के विज्ञान संवाददाता जोनाथन एमोस का कहना है कि विमान से संकेत तभी भेजे जा सकते हैं जब वह सही तरीक़े से काम कर रहा हो. इसी वजह से खोज टीम ने अब अपना पूरा ध्यान हिंद महासागर की ओर केंद्रित कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Getty

पहले अमरीकी मीडिया ने एक अनाम अधिकारी के हवाले से बताया कि विमान यातायात नियंत्रण कक्ष से संपर्क टूटने के घंटों बाद भी बोइंग 777 उपग्रह को सिग्नल भेज रहा था.

इसी वजह से खोजकर्ता यह अंदाज़ा लगा रहे हैं कि लापता विमान रडार पर दर्ज अपनी आख़िरी स्थिति के बाद भी 1600 किलोमीटर से अधिक दूरी तक उड़ा होगा.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कार्नी ने इस बात की पुष्टि की है कि अमरीकी दल लापता विमान की तलाश में अपना ध्यान हटाकर हिंद महासागर पर लगा रहा है क्योंकि कुछ 'नई जानकारी' मिली है. हालांकि उन्होंने इसके बारे में अधिक ब्योरा नहीं दिया.

मलेशिया सरकार के अनुरोध के बाद भारतीय नौसेना, वायु सेना और तट रक्षक बल भी अब विमान की खोज में जुट गए हैं.

भारतीय नौसेना के प्रवक्ता डीके शर्मा ने शुक्रवार को कहा कि छह जहाज़ों और पांच विमानों को अंडमान सागर में निगरानी के लिए भेजा गया.

मलेशियाई अधिकारियों ने बाद में कहा कि भारत के पूर्वी नौसेना कमान को चेन्नई तट से 9,000 वर्ग किलोमीटर की दूरी पर मौजूद समुद्री क्षेत्र में खोज करना था.

कुआलालंपुर में बीबीसी के जोनाथन हेड का कहना है कि अमरीका सभी नई सूचनाओं को गंभीरता से ले रहा है.

उम्मीद है बाक़ी

लापता विमान के लिए जारी खोज के बीच उन यात्रियों के परिवार बड़ी बेसब्री से ख़बर पाने का इंतज़ार कर रहे हैं जो उस विमान पर सवार थे.

फेंग ज़िलियांग के 21 साल के एक रिश्तेदार फेंग दांग भी लापता विमान के यात्रियों में शामिल हैं. उन्होंने बीजिंग में बीबीसी को बताया कि उनके परिवार ने पिछला हफ़्ता पीड़ा और हताशा के बीच गुज़ारा है.

इमेज कॉपीरइट s

उन्होंने कहा, "हम मलेशियाई अधिकारियों की प्रतिक्रिया से बेहद निराश हैं. वे जो जानकारी दे रहे हैं वह पूरी तरह विरोधाभासी है."

उन्होंने कहा, "जब तक यह स्पष्ट नहीं हो जाता कि आख़िरकार उस विमान के साथ क्या हुआ तब तक हमें यह उम्मीद रहेगी कि हमारे परिवार के सदस्य सुरक्षित घर लौट आएंगे."

मलेशिया के कार्यवाहक परिवहन मंत्री हिशामुद्दीन हुसैन ने कहा कि खोज का दायरा मलेशियाई प्रायद्वीप के पूर्व और पश्चिम दोनों दिशाओं की ओर बढ़ाया गया है.

चीन ने शुक्रवार को कहा था कि थाईलैंड में मौजूद खाड़ी में खोज में सफलता न मिलने के बाद पश्चिम मलेशिया के मलक्का जलडमरूमध्य में एक गश्ती जहाज भेजा जा रहा है.

लापता विमान में 153 चीनी यात्री सवार थे ऐसे में बीजिंग की ओर से खोज अभियान को तेज करने के लिए मलेशिया पर दबाव बढ़ रहा है.

हाल में चीनी अधिकारियों ने दक्षिण चीन सागर में लापता विमान के संभावित मलबे की उपग्रह तस्वीरें जारी की. हालांकि बाद में हुसैन ने कहा कि ये तस्वीरें लापता विमान एमएच 370 की नहीं है.

हालांकि चीन के सरकारी टीवी चैनल ने कहा मलबे की खोज जारी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार