पाकिस्तान भी रंगा रहा अबीर और गुलाल के रंग में

पाकिस्तान में होली इमेज कॉपीरइट SHIRAZ HASSAN

कभी आपने सोचा है कि भारत के अलावा होली और कहाँ-कहाँ मनाई जाती है?

भारतीय मूल के लोग चाहे दुनिया के जिस हिस्से में भी हों, होली के रंग उन्हें छू ही लेते हैं और भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में भी हिंदुओं ने होली खूब ज़ोरशोर से मनाई.

भारत में हर कोई होली के दिन रंगों में रंगा दिख रहा था. क्या आम और क्या ख़ास. नेता, अभिनेता और जनता सब रंगों से सराबोर थे. वहीं पाकिस्तान में भी होली की खुमारी चढ़ी हुई थी.

(पाकिस्तान में होली की धूम)

सुनील पाकिस्तान के सिंध सूबे के कराची शहर में रहते हैं.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "हमारे यहाँ होली बहुत बहुत अच्छी रही. यहाँ हिंदू बिरादरी के लोग होली मनाते हैं. पाकिस्तान में भी जोश और उल्लास के साथ होली मनाई जाती है. सारे रिश्तेदार बहन भाई मंदिरों में इकट्ठा होते हैं और एक दूसरे पर रंग डालते हैं."

छुट्टी नहीं

इमेज कॉपीरइट SUNIL KUMAR FACEBOOK

सुनील को होली से जुड़ी उत्सव की भावना सबसे अच्छी लगती है. वह कहते हैं कि इस दिन लोग सारी तकलीफें भुलाकर एक दूसरे पर रंग डालते हैं.

उन्होंने कहा कि लोग ख़ुद भी ख़ुश होते हैं और दूसरों को भी ख़ुशी देते हैं. वह कहते हैं कि उनके यहाँ होली में न केवल हिंदू परिवारों के लोग शिरकत करते हैं बल्कि पास पड़ोस के मुस्लिम परिवारों के लोग भी उनका साथ देते हैं.

मैंने सुनील से पूछा कि क्या पाकिस्तान में भारत की तरह होली की छुट्टी दी जाती है.

उन्होंने बताया कि उनके मुल्क में होली के लिए कोई छुट्टी नहीं दी जाती है. सारी चीजें, सारा शहर खुला हुआ रहता है. लेकिन रात में मंदिर में ये त्योहार मनाया जाता है या फिर अगले दिन होली का जश्न मनाते हैं.

(कटासराज मंदिर में आरती)

मोहनलाल भी कराची में ही रहते हैं. ये पूछने पर कि उनकी होली कैसी रही, वह कहते हैं, "होली अच्छी रही हमारी. रंगो का त्योहार है ये, ख़ुशियों का ये त्योहार है. रंगों की बात अच्छी लगती है. ख़ुशियों के त्योहार बहुत ही कम होते हैं. इसलिए ये और भी अधिक अच्छा लगा."

हिंदू अल्पसंख्यक

इमेज कॉपीरइट SHIRAZ HASSAN

भारत में केमिकल मिले रंगों के शिकायतों के उलट मोहनलाल ने बताया कि उनके यहाँ कच्चे रंग इस्तेमाल किए जाते हैं जो आराम से चढ़ते हैं और फिर आसानी से उतर भी जाते हैं.

होली विशेष तौर पर खान-पान के लिए भी मनाई जाती है. मोहनलाल ने बताया कि उनके यहाँ भी विशेष व्यंजन बनाए गए जो रिश्तेदारों को भी बांटे गए.

(पाकिस्तान में अल्पसंख्यक)

कराची में हिंदू अल्पसंख्यक हैं, ऐसे में उनकी होली के मौके पर बहुसंख्यक मुस्लिम लोगों का क्या रुख रहता है.

इस सवाल पर स्थानीय पत्रकार नंदलाल कहते हैं, "पाकिस्तान के थारपरकर के इलाक़े में मुल्क के अल्पसंख्यक हिंदू बहुतायत में रहते हैं."

उन्होंने कहा, "इस बार कुछ सादगी के साथ होली मनाई जा रही है. हमें बहुत ख़ुशी होती है कि हमारे मुस्लिम भाई भी हमारी ख़ुशियों में शरीक होते हैं. यहाँ मजहबी तौर पर भाईचारे का माहौल है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार