सीरिया संघर्षः बंदियों की 'सामूहिक हत्या'

इमेज कॉपीरइट Reuters

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार जांचकर्ताओं ने जानकारी दी है कि सीरिया में विद्रोहियों ने बड़ी संख्या में बंदी बनाए गए लोगों की सामूहिक हत्या की है.

जांच आयोग की ताज़ा रिपोर्ट में जनवरी में सीरिया के उत्तरी प्रांत एलेप्पो के बच्चों के अस्पताल पर किए गए रासायनिक हमले की घटना सहित और कई घटनाओं को दर्ज किया गया है.

इस बीच सरकारी सैन्य बलों पर आरोप लग रहे हैं कि वे नागरिकों के ख़िलाफ़ बैरल बम सहित कई और हथियारों का अंधाधुंध इस्तेमाल कर रहे हैं.

यह रिपोर्ट जिनेवा में मानवाधिकार परिषद् में हो रही एक बहस के दौरान जारी की गई.

जिनेवा से बीबीसी संवाददाता इमोगन फ़ोक्स ने जानकारी दी कि 'इंडिपेंडेंट इंटरनेशनल कमीशन ऑफ़ इन्क्वॉयरी' की सीरिया से जुड़ी ताज़ा रिपोर्ट बताती है कि कैसे वह देश के उत्तरी हिस्से में हुए कथित सामूहिक हत्या की तहक़ीकात कर रही है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि इराक में अल-क़ायदा से संबंध वाले इस इस्लामी राज्य और लेवंत (आईसिस) में बंदियों का सामूहिक हत्या हुई है.

सामूहिक हत्या

इमेज कॉपीरइट AFP

आइसिस लड़ाकों ने अलेप्पो में बच्चों के अस्पताल पर कब्ज़ा कर कई नागरिकों को बंदी बना लिया था. बंदी नागरिकों को वे बाहर ले गए और उन्हें मार डाला. प्रत्यक्षदर्शी इसे सामूहिक हत्या बताते हैं.

बीबीसी संवाददाता ने आगे बताया कि संयुक्त राष्ट्र जांचकर्ताओं ने तहक़ाकात के दौरान पाया कि एक तरफ़ तो सरकार के प्रतिनिधि जिनेवा में शांतिवार्ता में हिस्सा ले रहे थे और दूसरी ओर सरकारी फ़ौज बैरेल बम का धड़ल्ले से इस्तेमाल कर रही थी.

रिपोर्ट का कहना है कि ये हवाई हमले सैन्य ठिकानों को निशाने पर लेकर नहीं किए गए थे बल्कि इनका मक़सद साफ़ तौर से नागरिकों में आतंक फैलाना था.

रिपोर्ट यह भी बताती है कि पानी, भोजन, बिजली, चिकित्सा सुविधा का अभाव अब सीरिया में आम बात हो गई है और सीरिया के नागरिक घिरे हुए कस्बों और नज़रबंद केंद्रों में भूखों मर रहे हैं.

जांच आयोग के अध्यक्ष, ब्राज़ील के राजनयिक और क़ानूनी विद्वान पाउलो सर्जियो पिलहेरो का कहना है कि आयोग ने युद्ध अपराध के संदिग्धों की पहचान कर ली है, उनके नाम की एक सूची तैयार की है.

संदिग्ध के नामों की इस सूची में सीरिया के विभिन्न खुफिया एजेंसियों के प्रमुख, नजरबंद स्थलों के प्रभारी जहां उन पर अत्याचार होता था और नागरिकों को निशाना बनाने वाले सैन्य कमांडरों का नाम शामिल है.

साथ ही, इस सूची में उस हवाईअड्डे का निरीक्षण करने वाले अधिकारी, जहां बैरेल बम की योजना बनती और क्रियान्वित होती थी, विद्रोही गुटों के नेता और नागरिकों को निशाना बनाने वाली सरकार समर्थित नागरिक सेना भी शामिल हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार