पाकिस्तान में हिंदू मंदिर पर हमला

पाकिस्तान का मंदिर जिस पर हमला हुआ था (फ़ाइल) इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सिंध, पाकिस्तान के इस मंदिर पर 16 मार्च को हमला हुआ था जिसके बाद यहाँ मंदिरों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

शुक्रवार को पाकिस्तान के हैदराबाद के एक कारोबारी इलाक़े फ़तेह चौक के प्रसिद्ध हिंदू मंदिर में तीन नकाबपोशों ने हमला किया. इस इलाक़े के आसपास बड़ी तादाद में हिंदू रहते हैं.

एक चश्मदीद एनी साईदीन ने बताया कि शुक्रवार की सुबह बिना नंबर प्लेट वाली एक कार में तीन लोग आए. उनके मुंह पर नकाब थे.

इस जगह दो हिंदू मंदिर हैं. पहले एक छोटा हनुमान मंदिर पड़ता है उसके बाद एक देवी काली का बड़ा मंदिर पड़ता है. ये दोनों मंदिर भारत के विभाजन से पहले के हैं.

हिंदुओं की हिफ़ाज़त करनी होगी: नवाज़ शरीफ़

ये नकाबपोश हनुमान मंदिर में पहुँचे और उसे नुकसान पहुँचाया. पेट्रोल फेंका उसमें आग लगाई. वहाँ पूजा-पाठ करने वाले जिस तेल का प्रयोग करते हैं उस तेल का आग लगाने के लिए इस्तेमाल किया गया.

मंदिर के सामने के एक दुकानदार महिला ने जब शोर मचाया तो हमलावर भाग गए.

अभी तक किसी संगठन ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है. पुलिस ने घटनास्थल पर जाकर नुकसान का जायजा लिया है और इलाक़े के लोगों से बातचीत की है.

विरोध प्रदर्शन

ख़ुफ़िया सेवा के लोग भी लोगों से हमलावरों के हुलिए के बारे में पूछताछ कर रहे हैं.

जिस तरह से ये हमलावर आए और इसके लिए जो समय चुना उससे लगता है कि यह सुनियोजित तरीके से किया गया हमला है. हैदराबाद में इस तरह का हमला नई बात है.

एएसपी हैदराबाद के एसएसपी ने बताया कि हमले संबंधित थाने के एसएचओ को निलंबित कर दिया गया है.

इससे पहले सिंध में ही 16 मार्च को एक हिंदू मंदिर पर हमला हुआ था लेकिन वह घटना दो व्यक्तियों की निजी रंजिश का नतीजा बताई गई थी.

16 मार्च की घटना के बाद इस इलाक़े के मशहूर मंदिरों की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी.

सिंध में मुसलमानों के बाद सबसे बड़ी आबादी हिन्दुओं की है. इस घटना के बाद सिंध के छोटे-बड़े हिंदू संगठनों ने सड़क पर उतर कर विरोध प्रदर्शन किया.

(बीबीसी संवाददाता विनीत खरे से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार