लापता विमान: कुआलालंपुर में फूटा रिश्तेदारों का गु्स्सा

  • 30 मार्च 2014
मलेशियाई विमान में सवार चीनी यात्रियों के रिश्तेदार इमेज कॉपीरइट REUTERS

लापता मलेशियाई विमान में सवार चीनी यात्रियों के रिश्तेदारों ने कुआलालंपुर पहुंचने के बाद सरकारी दफ़्तरों पर अपना गुस्सा निकाला है.

वो सभी नारे लगा रहे थे कि "हमें सच बताओ." उनका कहना था कि मलेशियाई प्रधानमंत्री अपने उस बयान के लिए माफी मांगे, जो उनके मुताबिक गुमराह करने वाला था.

हिंद महासागर में दस विमान और आठ पोत लापता विमान के टुकड़ों की तलाश कर रहे हैं.

बीजिंग जा रहा ये विमान आठ मार्च को लापता हो गया था. इसमें कुल 239 लोग सवार थे, जिसमें 153 यात्री चीन के थे.

मलेशिया एयरलाइंस की उड़ान संख्या एमएच370 पर सवार चीनी यात्रियों के कुछ रिश्तेदारों ने इस हादसे के बारे में मलेशियाई पक्ष को मानने से इनकार करते हुए अधिकारियों को दोषी ठहराया था.

इन रिश्तेदारों में कई दर्जन लोग रविवार को बीजिंग से यहां पहुंचे.

माफ़ी की मांग

कुआलालंपुर पहुंचने के बाद चीनी यात्रियों के परिजनों ने एक होटल में संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया. इस दौरान वो एक बैनर लिए थे, जिस पर चीनी भाषा में लिखा था, "हम सबूत, सच और सम्मान चाहते हैं."

एक दूसरे बैनर पर अंग्रेजी में लिखा था, "हत्यारों को हमें सौंपो. हमारे संबंधियों को वापस करो."

इमेज कॉपीरइट Reuters

इन रिश्तेदारों के प्रतिनिधियों ने जियांग हुई ने कहा कि वो चाहते हैं कि मलेशियाई सरकार ने इस आपदा को लेकर शुरुआत में जिस तरह का रुख अपनाया, उसके लिए वो माफी मांगे.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नजीब रज़ाक को अपने उस बयान के लिए भी माफ़ी मांगनी चाहिए जिसमें उन्होंने ये संकेत दिया था कि विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया है और कोई भी जीवित नहीं बचा है.

उन्होंने कहा कि "किसी सीधे सबूत या ज़िम्मेदारी की भावना के बिना ही निष्कर्ष की घोषणा कर दी गई."

गुस्से का इज़हार

उन्होंने कहा कि वो लोग एयरलाइंस और सरकारी अधिकारियों से सीधी बातचीत करना चाहते हैं.

इससे पहले रिश्तेदारों ने मलेशियाई अधिकारियों पर अपने गुस्से का इज़हार भी किया.

मलेशिया के परिवहन मंत्री ने शनिवार को कहा था कि यात्रियों की खोज का काम जारी रहेगा.

उन्होंने कहा, "मेरे लिए परिवारों का सामना करना काफी कठिन है. मैंने हमेशा कहा है कि हम उम्मीद के खिलाफ़ जाकर ये उम्मीद कर रहे हैं कि हम बचे हुए लोगों को खोज लेंगे."

इस बीच चीनी और आस्ट्रेलियाई जहाज विमान के मलबे की तलाश में जुटे हैं, हालांकि अभी तक उन्हें कोई ठोस कामयाबी नहीं मिली है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार