जिनके ख़िलाफ़ बलात्कार का इस्तेमाल होता है हथियार की तरह

  • 3 अप्रैल 2014
गैंग गर्ल
Image caption गैंग में आठ साल की युवा लड़कियों को भी ड्रग्स ले जाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है.

ब्रिटेन की एक संस्था ने अपने शोध में कहा है, "आपराधिक गैंग में शामिल लड़कियां हताश जीवन जीने के लिए मजबूर हैं, जहां बलात्कार को उनके ख़िलाफ़ एक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जाता है और ड्रग्स और बंदूक रखना उनके लिए आम बात है.

संस्था सामाजिक न्याय केन्द्र ने कहा कि हज़ारों महिलाओं और लड़कियों की रोजमर्रा की पीड़ा पर किसी का ध्यान नहीं जाता है.

गैंग में आठ साल की युवा लड़कियों को भी ड्रग्स ले जाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है.

सामाजिक न्याय केन्द्र ने पीड़ितों की पहचान करने के लिए और लड़कियों की और अधिक मदद करने के लिए अस्पताल के ट्रॉमा इकाइयों में युवा कार्यकर्ताओं से अपील की है ताकि वो ऐसे गिरोह छोड़ दें.

सामाजिक न्याय केन्द्र एक दक्षिणपंथी झुकाव वाली थिंक टैंक संस्था है जिसकी स्थापना इयान डंकन स्मिथ ने की थी. उस वक्त वो कंजर्वेटिव पार्टी के नेता थे और कैबिनेट मंत्री थे.

सामाजिक न्याय केन्द्र ने यह शोध लंदन युवा दान संस्था एक्सएलपी के साथ मिलकर किया है जो वर्तमान और पूर्व गिरोह के सदस्यों, स्वयंसेवी संगठनों और सरकारी एजेंसियों के लिए काम करता है.

यौन शोषण

Image caption ट्रैसी मिलर अपने खराब घरेलू जीवन की वज़ह से गैंग में शामिल हुई.

शोधकर्ताओं ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि गैंग की लड़कियों को 10 साल की अवस्था में ही लड़कों के साथ यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर किया जाता है ताकि लड़कों को गैंग में सक्रिय किया जा सके.

एक मामले में तो एक स्कूल छात्रा को अगवा कर उसके साथ 9 मर्दों ने बलात्कार किया क्योंकि उसने गैंग के एक सदस्य की आलोचना की थी.

विरोधी गैंग की जवान महिलाएं निशाने पर होती हैं. कुछ मामलों में तो उन्हें कतार में खड़ा करके उनसे कई मर्दों के साथ सेक्स संबंध बनवाए जाते हैं.

शोधकर्ताओं ने कहा है कि गैंग की संस्कृति में शामिल होने से जवान लड़कियों और महिलाओं की शिक्षा पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है.

कुछ स्कूलों ने अपनी प्रतिष्ठा की वज़ह से इस समस्या की तरफ से आंखे मूंद ली है.

एक अध्यापक ने कहा, "हम तेज़ रफ्तार कार, सेक्स और ड्रग्स के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकते."

सामाजिक न्याय केन्द्र सोमवार को लंदन में लड़कियों और गैंग के ऊपर एक सम्मेलन आयोजित करेगा.

क्रूर अंडरवर्ल्ड

उप-पुलिस निदेशक एडवर्ड बॉड ने कहा कि रिपोर्ट से क्रूर अंडरवर्ल्ड का सच सामने आया है जहां यौन शोषण, बंदूक और ड्रग्स के साथ जीना आम बात है.

वो कहते हैं, "मीडिया गैंग के पुरूष सदस्यों के अपराध के बारे में तो नियमित तौर पर बात करता है लेकिन लड़कियों की रोजमर्रा की तकलीफों पर ध्यान नहीं देता है. "

बॉड ने बीबीसी रेडियो 5 लाइव से कहा कि जिस तरह से पुलिस रोकथाम और खोज करती है उससे लड़कियां अवैध समानों को ले जाने में सफल हो जाती हैं, क्योंकि 95 फीसदी रोकने वाले पुरूष होते हैं.

बच्चों के आयुक्त के कार्यालय द्वारा जारी एक हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि लगभग 2,500 बच्चे गैंग के हाथों यौन शोषण का शिकार है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार