कैसी दिखती है यह आज़ादी?

बीबीसी पाठकों की भेजी तस्वीर इमेज कॉपीरइट CECILLA FATONE

दुनिया को स्वतंत्रता या आज़ादी कैसी दिखाई देती है? इस सवाल का कोई एक निश्चित जवाब नहीं हो सकता है. बीबीसी ने अपने पाठकों से यही सवाल किया और इसके जवाब में मिली हज़ारों तस्वीरें.

बीबीसी के पाठकों ने फ़्रीडम2014 थीम पर स्वतंत्रता को अभिव्यक्ति देने वाले लम्हों को कैमरे में क़ैद किया.

इन तस्वीरों में हर तरफ़ आज़ादी की मौजूदगी साफ़-साफ़ नज़र आती है. कभी वह जेल की सलाखों से बाहर झांकती है तो कभी पक्षियों की उन्मुक्त उड़ान बन जाती है, कभी सागर किनारे दौड़ते इंसान की शक्ल में सामने आती है तो कभी आभार जताते जानवर और इंसान के रिश्तों में प्यार की गरमाहट बन जाती है.

जीवन की गतिशीलता में आज़ादी की मौजूदगी बार-बार तस्वीरों की शक्ल में सामने आती है और स्वतंत्रता के अनेक अर्थों को साकार करती चली जाती है.

हवा के साथ होड़ लेते घोड़े की तस्वीर सेसिलिया फ़ैटोन ने इटली के लेको में खींची.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

स्पेन के बर्सिलोना में एक युवा जोड़े ने 20 वर्षीय लुकास कॉटने को इस लम्हे को कैमरे में क़ैद करने के लिए प्रेरित किया. उन्होंने बताया, "मैंने यह तस्वीर उस पल खींची जब लड़की ने अपने मित्र के चेहरे को स्पर्श किया. एक व्यक्ति की स्वतंत्रता वहीं ख़त्म हो जाती है, जहाँ से दूसरे की आज़ादी शुरू होती है."

इमेज कॉपीरइट SADIE COOK

अमरीका के उत्तरी कैरोलिना में रहने वाले 16 वर्षीय सैडी कोरनेट्टे के लिए आज़ादी का अर्थ असंभव को संभव कर दिखाना है. वह कहते हैं, "अगर खिलौने वाली नाव एक पुल को तैर कर पार कर सकती है, तो हम कुछ भी कर सकते हैं. यही तो आज़ादी है."

इमेज कॉपीरइट JHANA TSHONG

22 साल की झाना तोशोंग कहती हैं, "भूटान की पारो वैली में घर आकर मैं सबसे ज़्यादा आज़ाद महसूस करती हूँ. यह मेरी धरती, मेरी पहचान और मेरी स्वतंत्रता है."

इमेज कॉपीरइट KYLE KEOGAN

आज़ादी और अंडे के छिलके का क्या रिश्ता हो सकता है? ब्रिटेन के 23 वर्षीय केले केयोगान अपनी तस्वीर के बारे में बताते हैं, "एक चूजा अपने चारों तरफ़ घिरे अंडे के छिलके की दीवार को तोड़कर बाहर निकलने में कामयाब रहा, यह छिलका पीछे छूट गया है और चूज़ा ज़िंदगी की तरफ़ आगे बढ़ गया है."

इमेज कॉपीरइट RIZMI TAHIR

मेडिकल की पढ़ाई करने वाली रिज़मी ताहिर ने यह तस्वीर पाकिस्तान के शहर कराची में स्थित शिफ़ा अस्पताल में खींची. वह कहती हैं कि हालांकि मैं अपने काम को बेहद पसंद करती हूं, लेकिन मेरा हर दिन व्यस्तता भरा होता है. "आख़िर में घर जाने और आराम करने की छुट्टी मिलने वाला पल सबसे ज़्यादा ख़ुशी देने वाला होता है."

इमेज कॉपीरइट KARINA BOISSONNIER

फ़्रांस की 19 वर्षीय कैरिना बोइसोनिर आज़ादी को प्रेम और सम्मान से जोड़ते हुए कहती हैं, "आज़ादी इंसान और जानवरों के बीच आपसी सम्मान में मौजूद होती है. यह दुनिया की तरफ़ उम्मीद भरी निगाहों से देखना, बिना किसी भय के लोगों का प्यार स्वीकार करना या बदले में प्यार देने के काबिल होना है."

इमेज कॉपीरइट INZHAM JAVED

इंज़माम जावेज ने पाकिस्तान के गिलगिट-बालिस्तान स्थित बग़ीचे में अपनी तस्वीर खींचने के लिए टाइमर का इस्तेमाल किया. वह कहते हैं, "मेरे लिए आज़ादी जीवन जीने का एक तरीका है." वह अपने देश के बारे में कहते हैं, "दुनिया जैसे जैसे विकसित हो रही है, मेरा देश पाकिस्तान एक क़दम पीछे जा रहा है."

इमेज कॉपीरइट DANIELLE HORNBERGER

20 वर्षीया डेनियल ने यह तस्वीर इंडियनापोलिस में खींची. वह कहती हैं, "यह तस्वीर आज़ादी की एक झलक देती है. वास्तव में इस तस्वीर में दिखने वाला व्यक्ति अमरीका में स्वतंत्र नहीं है. उसे बचपन में अवैध तरीके से यहां लाया गया था और उसने ईमानदारी से जीने के लिए कड़ी मेहनत की है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

28 वर्षीय मोहम्मद फ़ारुक़ अज़ीज ने तस्वीर इस्लामाबाद में खींची. वह कहते हैं, "यह बच्चा स्वतंत्रता का प्रतीक है, जब वह हवा में बिना किसी डर के मुस्कुरा रहा था. उसे अपने पिता के हाथों की मौजूदगी पर भरोसा था."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ब्राजील की एक जेल की तस्वीर के बारे में 24 वर्षीय एंद्रे आर हेर्ज़र कहते हैं, "इस छोटी सी जगह से क़ैदी अपनी आज़ादी की झलक देख सकते हैं."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

सोंटी रैमिरेज़ ने पोलैंड में खींची तस्वीर भेजी. 23 वर्षीय रैमिरेज़ कहते हैं, "यह ग्रैफ़िटी (भित्ति चित्र) साम्यवाद के बाद जीवन के प्रति एक स्वतंत्र नज़रिए की कहानी कहती है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ऑस्ट्रेलिया के फ़्रेमानटेले की रहने वाली क्रिस्टिने रॉलैंड ने अपनी माँ लॉरियन की तस्वीर भेजी, जिनकी साल 2013 में एक बीमारी से मौत हो गई. वह कहती हैं कि उनकी माँ एक समर्पित पाठक, पैदल लंबी यात्राएं करने वाली और सबसे बढ़कर सीखने वाली महिला थीं. "वह बीमारी के कारण छिनी आज़ादी से ज़िंदगी के लम्हे खोज लेती थीं, उनके बारे में हम शब्दों में पूरी तरह बताना संभव नहीं है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

तंजानिया के रहने वाले एड्गर लुशाजु की उम्र 24 साल है. उन्होंने इस तस्वीर का रेखाचित्र बनाया है. वह कहते हैं, "आज़ादी का मतलब मन की समझ है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

25 वर्षीय सैयद अर्सलैन बुखारी ने यह तस्वीर पाकिस्तान के भावलपुर क्षेत्र में खींची. वह कहते हैं, "यह व्यक्ति चिंताओं से मुक्त और अपनी स्थिति से संतुष्ट है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अपनी इस तस्वीर के बारे में डेविड कहते हैं, "किसी तनी हुई रस्सी पर निर्भय होकर चलने के लिए आपका मन डर से मुक्त और शांत होना चाहिए." वह कहते हैं, "रस्सी पर चलते हुए आप बिल्कुल स्वतंत्र महसूस कर सकते हैं. इस पर चलना बिल्कुल हवा में उड़ने जैसा महसूस होता है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

26 वर्षीय नरेश गुदरू ने यह तस्वीर भारत के नए घोषित राज्य तेलंगाना में खींची. दो बैग के सहारे सोती बच्ची की तस्वीर के बारे में वह कहते हैं, ''ग़रीबी के कारण हो सकता है कि यह लड़की मनचाही चीज़ें न कर पा रही हो. आज़ादी का मतलब होता है कि आप अपने मन की कर सकें."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यह तस्वीर घाना में रहने वाले 27 वर्षीय नील ओडूम ने भेजी है. वह कहते हैं, "मैं उदास था. घर पहुंचने के बाद मैंने देखा कि मेरी भतीजी बिल्कुल बेफिक्री से 'एम्पी' खेलने में मशगूल थी."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इवान ने यह तस्वीर नैरोबी में जानवरों के अनाथालय में खींची. वह कहते हैं, "मैं अपने जीवन में कभी इस तरह क़ैद नहीं हुआ. मेरा जहाँ भी जाने का मन हो मैं वहाँ जा सकता हूँ. हालांकि मुझे सोमवार से शुक्रवार तक काम करना पड़ता है, एक तरीके से मैं आज़ाद नहीं हूँ."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यह तस्वीर खींचने वाले जोशुआ हार्ट इस वनमानुष की 'क्षमा करने और भूल जाने' की योग्यता देखकर दंग रह गए. इसे बेहद ख़राब परिस्थितियों से इंडोनेशिया के सुलावेसी स्थित वन्यजीव अभयारण्य ने मुक्त कराया गया था. वह कहते हैं, "यह तस्वीर भयमुक्त होकर जीने की आज़ादी को साकार करती है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

30 वर्षीय आशला थॉमस कहती हैं, "हममें से अधिकांश लोग मौत के डर के गुलाम होते हैं. उन्होंने क़ब्रिस्तान की यह तस्वीर ब्रिटेन में खींची."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

टिम कोल्स ने यह तस्वीर कंबोडिया में खींची. वह कहते हैं, "कंटीले तारों पर बैठी यह चिड़िया स्वतंत्र है. लेकिन वहाँ जेल में बंद क़ैदियों को आज़ादी नहीं थी."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

रॉबर्ट लेश्ले के पिता नॉरमन लेश्ले की यह तस्वीर ब्रिटेन के हॉम्पटन की है, उन्होंने दूसरे विश्व युद्ध में हिस्सा लिया था. उनके अऩुसार 1950 में खींची गई तस्वीर स्वतंत्रता को व्यक्त करती है, जिसका अर्थ है ज़्यादा सहजता के साथ जीवन को जीना, जिसकी रफ़्तार युद्ध से धीमी हो.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इस तस्वीर में दक्षिण-पश्चिम वेल्स में बाराफंडल खाड़ी में दौड़ते हुए कुत्तों को देखा जा सकता है. इनकी स्वतंत्रता के बारे में एला फ़्रैज़कोवस्का कहते हैं, "हमारी जिम्मेदारियों- बीमारी, वित्तीय परेशानियों के बीच हमको आज़ादी के ऐसे ही छोटे-छोटे लम्हे मिलते हैं."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

31 वर्षीय के रुथ काल्वो टेलो ने तस्वीर बर्मा की राजधानी रंगून से भेजी. वह कहती हैं, "बर्मा का भविष्य चमकदार है. यहाँ हर कोने में चारों तरफ़ आज़ादी है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यह व्यक्ति अनीम (कारतुन) का एक प्रशंसक है जो लोलिता जैसे कपड़ों में गर्व के साथ टहल रहा था. यह तस्वीर खींचने वाले रिचर्ड हॉ बताते हैं कि यह तस्वीर जापान के हाराजुकू ज़िले में खींची गई थी. वह कहते हैं, "उन्होंने कभी परवाह नहीं की कि लोग उनके बारे में क्या सोचते हैं?"

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

रोजर्स जावान इंज़ायुखी ने अपने दोस्त की यह तस्वीर केन्या के एक द्वीप पर खींची. वह कहते हैं, "इस तस्वीर में दिखने वाला व्यक्ति मेरा दोस्त गैस्टॉन है. इस तस्वीर में मेरे लिए स्वतंत्रता का अर्थ चिड़िया की तरह उड़ना है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

स्कॉटलैंड की मेलानि नरिन कहती हैं कि स्वतंत्रत का अर्थ है घूमना. इस तस्वीर के बारे में वह कहती है, "मुझे शांत और शोरगुल से मुक्त जगहें बेहद पसंद हैं."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

एहास इदरीस के लिए स्वतंत्रता का अर्थ अपने बेटे अब्दुलरहमान को गले लगाना है. वह कहते हैं, "बेटे का दुलार दिन भर की सारी चिंताओं से मुक्त कर देता है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पोलैंड के एक जेल की तस्वीर खींचने वाले अर्कादिसुज़ ज़्याला कहते हैं, "मैं स्वतंत्र था, लेकिन इस इमारत के भीतर मौजूद क़ैदी आज़ाद नहीं थे, जो केवल मुक्ति का सपना देख सकते थे."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

मालोगोर्ज़ेटा डाबरोवा कहती हैं कि यह तस्वीर हर तरह की चिंताओं से बेफिक्री को दर्शाती है, "आप तैरते हैं और पानी के साथ बह रहे होते हैं."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बैंकाक में यात्रा के दौरान कनाडा के इस यात्री को अपनी स्वतंत्रता का अहसास हुआ क्योंकि वह वहाँ पहिएदार साइकिल से घूम सकते थे. इसके लिए उन्हें किसी के सहारे की जरूरत नहीं थी.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यूक्रेन के कीएफ़ की रहने वाली मारिया खोमिक कहती हैं, "यह जगह मेरे और बच्चों के लिए है. यह हमेशा नए यूक्रेन की आज़ादी और स्वतंत्रता का उद्गम स्थल बना रहेगी."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

50 वर्षीय सांद्रा रॉबिंसन के लिए स्वतंत्रता का अर्थ है, "दिन में अपने प्रियजनों के साथ ख़ुशी से नाचना." उन्होंने यह तस्वीर इटली में खींची.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

रॉबर्ट बैमले कहते हैं, "अपने बच्चों और प्रेमी के साथ रहना अच्छा लगता है. मेरे लिए स्वतंत्रता का अर्थ है कि मैं उस व्यक्ति के साथ रहूं जिससे मैं प्रेम करता हूँ." यह तस्वीर लंदन के ओलंपियक स्टेडियम के बाहर की है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

34 वर्षीय सैम सेफाई ने बाघ की यह तस्वीर माल्टा में खींची. वह कहते हैं, "जब मैंने बाघ को देखा तो लगा कि उसने आज़ादी की सारी उम्मीद छोड़ दी है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बेल्जियम में रहने वाले कांगो के कलाकार जैक मुलेले आज़ादी के बारे में काफ़ी अलग ख़्याल रखते हैं. वह कहते हैं, "आज़ादी के बिना जीने का अर्थ है कि वहाँ कोई ज़िंदगी नहीं है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

मार्क डि रोने ने यह तस्वीर अफ़ग़ानिस्तान के एक कैंप में खींची. वह कहते हैं, "यह तस्वीर युद्ध से जर्जर दुनिया के हिस्से का सच सामने लाती है. इसमें दुखों और निजता के अभाव से पलायन की प्रवृत्ति दिखाई देती है, भले ही यह कितनी क्षणिक क्यों न हो."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

48 वर्षीय माइक नाइट उत्तर कोरिया में थे. वह कहते हैं, "जब उन्होंने तस्वीर खींची लोग उनकी उपेक्षा करके कतारबद्ध तरीके से आगे बढ़ रहे थे, लेकिन पीछे की तरफ़ मुड़कर देखने वाली आज़ादी की जिज्ञासा उनके भीतर थी, यह बात मुझे बेहद आकर्षक लगी."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

एक अध्यापिका लिज़ बोक्स अपनी तस्वीर के बारे में कहती हैं, "केन्या में गर्मियों के दौरान मागड़ी झील में एक व्यक्ति छोटे बच्चे को खड़े होने के लिए सुरक्षित स्थान के बारे में बता रहा है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ब्रिटेन की निकोला मोर्ले ने बीबीसी को दवाइयों के एक पत्ते की तस्वीर भेजी. वह कहती हैं, "उनकी मौजूदगी के कारण मैं अच्छे से कम कर पाती हूँ, उनके बिना तो ज़िंदगी पकड़ से बाहर हो जाएगी."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पेरिस में रहने वाले एक वैज्ञानिक टॉम फ्रोज़ार्ट ने यह तस्वीर अंटार्कटिका में खींची. इसमें स्वतंत्रता की विपरीत स्थिति को साफ़-साफ़ देखा जा सकता है. उनकी कॉलोनी से कुछ दूर इन पैंग्विनों को क़ैद करके रखा गया था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

75 वर्षीय ब्रॉयन स्मिथ कहते हैं कि इस तस्वीर में वह ब्रिटेन की रॉयल एअर फ़ोर्स की तरफ़ से मिली स्वतंत्रता का जश्न मना रहे हैं. वह कहते हैं, "यहां आने वाले लोग आसमान में उड़ने की आज़ादी को महसूस करते हैं."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

25 वर्षीय गैब्रिएल ने यह तस्वीर इटली के लैज़ियों में विटेर्बो स्थित जगह से खींची. वह बताते हैं, "मैं प्रकृति के सौंदर्य के विपरीत एक तंग कोठरी के बारे में सोच रहा था. मेरे लिए यह तस्वीर कल्पना, अभिव्यक्ति और सोच की स्वतंत्रता का वर्णन करती प्रतीत होती है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अमरीका के यूजेंस इगर्स ने आज़ादी को इस तस्वीर में अभिव्यक्ति दी है. वह कहते हैं, "सभी इंसानों के लिए आज़ादी का अर्थ है गुलामी, पूर्वाग्रह, अत्याचार, और दमन जैसे सामाजिक अन्याय की बेड़ियों से मुक्त होना."

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार