प्रदर्शनकारियों पर 'विशेष पुलिस ने चलाई थी गोली'

यूक्रेन प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट afp

यूक्रेन सरकार की एक शुरुआती जांच में पता चला है कि फ़रवरी में कीएफ़ में हुए सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर यूक्रेन की विशेष पुलिस ने अंधाधुंध फ़ायरिंग की थी, जिसमें कई लोग मारे गए थे.

यूक्रेन के गृहमंत्री आर्सेन आवकोव ने पत्रकारों को बताया कि बेयरकुत पुलिस नामक इस विशेष पुलिस दल के गोली चलाने वाले 12 सदस्यों की पहचान हो गई है. इनमें से तीन पुलिसकर्मियों को गिरफ़्तार किया जा चुका है.

यूक्रेन संकट: रूस पर दबाव के लिए नेटो की बैठक

कीएफ़ के इंस्तीत्यूस्का मार्ग पर हुए उस हत्याकांड की जांच की जा रही है, जहां 18 से 20 फ़रवरी के बीच 76 लोग मारे गए थे.

महीनों चले आम प्रदर्शन के कारण राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच को सत्ता छोड़नी पड़ी थी.

संवाददाता सम्मेलन में आवकोव ने शुरुआती जांच के नतीजों को रखा.

आरोपियों की पहचान हुई

प्रदर्शनकारियों में से अधिकांश की मृत्यु मुख्य प्रदर्शन स्थल इंडिपेंडेंस स्क्वायर के नजदीक हुई थी.

आवकोव ने एक विशेष घटना का जिक्र करते हुए कहा कि जांच में पाया गया कि जो आठ लोग मारे गए थे, उनको लगने वाली गोली एक ही मशीन गन से चलाई गई थी.

गृहमंत्री ने कई तस्वीरें भी दिखाईं जिनसे पता चलता है कि कथित पुलिस के निशानेबाज़ कहां से गोली चला रहे थे.

उन्होंने कहा कि कई शूटरों की पहचान कर ली गई है.

इस बीच यूक्रेन सुरक्षा सेवा प्रमुख वैलेंटिन नालेचेंको ने कहा है कि रूसी संघीय सुरक्षा सेवा (एफएसबी) के लोग प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ अभियान चलाने की योजना बना रहे थे.

उन्होंने कहा कि एफ़एसबी ने यूक्रेन में भारी मात्रा में विस्फ़ोटक और हथियार विमान से भेजे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार