अमरीका ने माना उसी ने बनाया था 'क्यूबन ट्विटर'

इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका में व्हाइट हाउस ने इस बात की पुष्टि की है कि अमरीका की एक एजेंसी उस मेसेज सेवा के पीछे थी जिसे कथित तौर पर क्यूबा में अशांति फैलाने के लिए इस्तेमाल किया गया था.

समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस के मुताबिक, "इस सेवा का नाम ज़ुनज़ुनिओ था. इसे क्यूबन ट्विटर भी कहा जाता है. अपनी लोकप्रियता के चरम पर इसके 40,000 सब्सक्राइबर्स थे लेकिन इंटरनेट पर इसकी पहुंच सीमित थी."

ऐसा माना जाता है कि यह परियोजना 2009 से 2012 तक चली.

'दूसरे देशों से राउटिंग'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption दैनिक संवाददाता संमेलन में गुरुवार को व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कारनेय ने कहा कि इस परियोजना पर अमरीकी कांग्रेस में बहस हुई थी

अमरीका ने दूसरे देशों के ज़रिए संदेशों की राउटिंग कर इस संदेश सेवा से अपने संबंधों को कथित तौर पर गुप्त रखा था.

इस मामले पर अभी तक क्यूबा की तरफ से कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं मिली है.

क्यूबा की राजधानी हवाना में मौजूद बीबीसी की साराह रेंसफोर्ड ने बतया कि क्यूबा में सूचना प्रसार की ज़रूरत महसूस की जाती है और वहाँ कोई स्वतंत्र मीडिया भी नहीं है.

मुख्य रूप से मोबाइल आधारित इस योजना के बारे में सबसे पहले जानकारी एसोसिएटेड प्रेस ने दी थी. इसे अमरीका की एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) द्वारा चलाया जा रहा था.

यह अमरीका के विदेश मंत्रालय के अंतर्गत काम करने वाली एक एक संघीय संस्था है जो अंतरराष्ट्रीय विकास के लिए काम करती है.

'कड़े नियंत्रण के साथ'

गुरुवार को व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कारनेय ने कहा कि इस परियोजना पर अमरीकी कांग्रेस में बहस हुई थी और इसे कड़े नियंत्रण के साथ पारित किया था.

उन्होंने कहा,"इस तरह की स्तिथियाँ होती हैं जहाँ ऐसी परियोजना और उसका अमरीका के साथ संबंध होना इस सेवा का प्रयोग करने वाली संस्था और बाकी जनता के लिए परेशानी खड़ी कर सकता है. लेकिन यह किसी तरह का गुप्त अभियान नहीं था"

Image caption इसे अमरीका की एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) द्वारा चलाया जा रहा था

यूएसएआईडी प्रवक्ता मैट हैरिक ने बीबीसी को बताया कि एजेंसी को क्यूबा में किए गए अपने कार्यों पर गर्व है क्योंकि यह एजेंसी हर जगह लोगों को अपने अधिकारों का प्रयोग करने और उन्हें बाहरी दुनिया के साथ जुड़ने में मदद करती है.

'कम्युनिस्ट सरकार का विरोध'

एसोसिएटेड प्रेस के मुताबिक, "ज़ुनज़ुनिओ का निर्माण मौसम और खेल जैसे रोज़मर्रा के विषयों पर चर्चा के लिए लोगों को आकर्षित करने के किया गया था. इसके बाद अमरीका की सरकार ने इस सेवा पर राजनीतिक विषयों पर संदेश डालने शुरू किए थे."

इस सेवा के कार्यकारी अधिकारियों ने बिल के भुगतान के लिए स्पेन और केमन आइलैंड में कंपनियां बनाईं और ज़ुनज़ुनिओ से भेजे जाने वाले संदेशों को अमरीका के सर्वरों से दूर रखा गया.

कथित तौर पर एक असली कंपनी का भ्रम पैदा करने के लिए इस संदेश सेवा की एक वेबसाइट और फर्जी वेब विज्ञापन भी बनाया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार