सेंट्रल अफ़्रीकन रिपब्लिक में हिंसा, 30 मौतें

  • 10 अप्रैल 2014
सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक इमेज कॉपीरइट Reuters

मध्य अफ़्रीकी देश सेंट्रल अफ़्रीकन रिपब्लिक (सीएआर) में विरोधी गुटों के बीच हुई हिंसा में कम से कम 30 लोग मारे गए हैं और दस लोग घायल हुए हैं.

पुलिस अधिकारियों ने बताया है कि केंद्रीय शहर देकोआ में मारे गए ज़्यादातर लोग आम नागरिक हैं, जिन्हें गोली लगी है.

उन्होंने बताया कि मुस्लिम विद्रोही संगठन सेलेका के मोर्चों पर ईसाई प्रभाव वाले एंटी-बलाका चरमपंथियों ने हमला किया.

सीएआर में मुसलमानों की अगुवाई वाली सरकार को लेकर बढ़ते असंतोष के बीच बीते साल दिसंबर की शुरुआत में हिंसा भड़की थी.

मुस्लिम चरमपंथियों ने राष्ट्रपति फ्रैंकोइस बोज़ीज़ी का तख़्तापलट करके मार्च 2013 में सत्ता पर क़ब्ज़ा कर लिया था. बोज़ीज़ी क़रीब एक दशक तक सत्ता में रहे.

राष्ट्रपति बने विद्रोहियों के नेता माइकल जोटोडिया पर आरोप था कि वह सेना को काबू करने में नाकाम रहे जिसने ईसाई नागरिकों के साथ ज़्यादती की.

धार्मिक हिंसा

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस साल जनवरी में जब जोटोडिया सरकार गिर गई, तो ईसाई चरमपंथियों ने बदला लेने के लिए मुसलमान नागरिकों पर हमले शुरू कर दिए.

इस टकराव की शुरुआत से लेकर अब तक हज़ारों लोग मारे जा चुके हैं और लाखों घायल हुए हैं.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि क़रीब 13 लाख लोगों को मदद की ज़रूरत है. ये आंकड़ा देश की कुल जनसंख्या का एक तिहाई है.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में गुरुवार को सीएआर में अफ़्रीकी मिशन को संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में तब्दील करने के लिए मतदान किया जाएगा.

इस समय वहां क़रीब 6000 अफ़्रीकी और 2000 फ्रांसीसी शांति सैनिक तैनात हैं और उन्हें हिंसा को काबू में रखने के लिए ख़ासी मशक्कत करनी पड़ रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार