अमरीका में बहुमंजिला इमारत जब्त, ईरान का ऐतराज

संयुक्त राष्ट्र में ईरान के राजदूत हामिद अबूतालेबी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमरीका ने संयुक्त राष्ट्र में ईरान के राजदूत हामिद अबूतालेबी को वीजा देने से इनकार कर दिया है.

अमरीका के मैनहैट्टन में एक गैर-सरकारी संगठन की गगनचुंबी इमारत को ज़ब्त करने के फ़ैसले की ईरान ने आलोचना की है. इस इमारत का कथित रूप से तेहरान सरकार के साथ संबंध है.

इस 36 मंजिला इमारत का मालिकाना हक़ मुख्य रूप से अलावी फाउंडेशन के पास है, जो एक फारसी और इस्लामिक सांस्कृतिक केंद्र है.

ईरान ने कहा है कि इमारत ज़ब्त करने की कार्रवाई गैर-कानूनी है और धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन है.

अमरीकी न्याय मंत्रालय ने गुरुवार को इस बात के लिए सहमति दी थी कि इस इमारत को बेचने से मिले धन को ईरान समर्थित चरमपंथियों के हमलों के पीड़ितों में बांट दिया जाए.

ईरान का ऐतराज़

ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मर्ज़ीह अफ़ख़म ने शविवार को कहा, "एक स्वतंत्र धर्मार्थ संगठन की संपत्ति को ज़ब्त करने के फ़ैसले से अमरीकी न्याय की विश्वसनीयता पर शक पैदा होता है."

वर्ष 2009 में एक मुकदमे के दौरान मैनहैट्टन के अमरीकी अटार्नी ऑफिस ने कहा था कि अलावी फाउंडेशन का संचालन ईरान सरकार करती है. हालांकि तेहरान ने इस दावे को नकार दिया था.

बीते साल एक संघीय अदालत ने आदेश दिया था कि अमरीकी प्रतिबंधों के उल्लंघन के सिलसिले में "ईरान की संपत्ति ज़ब्त करने" के लिए इस इमारत को ज़ब्त किया जा सकता है.

दोनों देशों के बीच हाल में उस समय तनाव पैदा हुआ जब अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एक ऐसे क़ानून पर हस्ताक्षर किए, जिसके चलते संयुक्त राष्ट्र में ईरान के नामज़द राजदूत हामिद अबूतालेबी के अमरीका जाने पर प्रतिबंध लग सकता है.

अमरीका को संदेह है कि 1979 में तेहरान में अमरीकी दूतावास पर कब्ज़ा करने वाले चरमपंथी छात्रों के साथ अबूतालेबी के कथित रूप से संबंध थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार