पाकिस्तान: पत्रकार हामिद मीर पर जानलेवा हमला

हामिद मीर पर हमला इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption पत्रकार हामिद मीर पर हमला

पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार और जियो न्यूज़ के संपादक हामिद मीर पर कराची में कुछ अज्ञात लोगों ने गोलियां चलाई हैं.

जियो न्यूज़ के मुताबिक़ भारतीय समयानुसार शनिवार शाम छह बजे के क़रीब हामिद मीर जब कराची हवाई अड्डे से जियो न्यूज़ के दफ़्तर जा रहे थे तभी मोटरसाइकिल पर सवार कुछ लोगों ने उन पर फ़ायरिंग की.

इस समय वो आग़ा ख़ान अस्पताल में भर्ती हैं. डॉक्टरों के मुताबिक़ उनको कुल तीन गोलियां लगी हैं.जियो न्यूज़ का कहना है कि हामिद मीर ने अपने परिवार और सरकार के कुछ लोगों को लिखित रूप में बताया था कि अगर उन पर हमला हुआ तो पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई और उसके प्रमुख जनरल जहीरुल इस्लाम इसके जिम्मेदार होंगे.

'आईएसआई ज़िम्मेदार'

जियो न्यूज़ से बात करते हुए हामिद मीर के भाई आमिर मीर ने कहा है कि उनके भाई ने उन्हें बताया था कि आईएसआई ने उनके क़त्ल का एक मंसूबा बना रखा है.

इस बीच पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकारों ने कहा है कि पाकिस्तानी मीडिया को इस समय एकजुटता दिखाने की ज़रूरत है.

एक्सप्रेस ट्रिब्यून के चीफ़ एडिटर एम ज़ियाउद्दीन ने कहा है कि पाकिस्तान में मीडिया संस्थानों में इकाई न होने का नतीजा है कि पत्रकार चुन-चुन कर मारे जा रहे हैं.

लेकिन पाकिस्तान में पत्रकारों कें संगठन पाकिस्तान फ़ेडरल यूनियन ऑफ़ जर्नलिस्ट के पूर्व अध्यक्ष मज़हर अब्बास ने कहा कि वो नहीं समझते कि इस घटना के बाद भी पाकिस्तान में मीडिया एकजुट हो पाएगा.

उनका कहना था, ''अब भी देखलें एआरवाई ने जियो न्यूज़ के हवाले से ब्लैक आउट किया हुआ है. थोड़े दिन तक ये बात चलेगी.''

आमिर मीर के अनुसार हामिद मीर ने कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट के लिए एक संदेश रिकॉर्ड करा रखा है जिसमें उन्होंने आईएसआई के प्रमुख और कुछ दूसरे अधिकारियों को नामज़द किया है.

तीन गोलियां लगीं

कराची शहर के पुलिस प्रमुख शाहिद हयात ने बताया कि शनिवार को हामिद मीर इस्लामाबाद से कराची गए थे. उनके अनुसार कराची हवाई अड्डे से निकलते ही जैसे ही उनकी गाड़ी जिन्ना टर्मिनल के पास पहुंची, वहां फ़ैसल चौक के पास बने एक पुल के नीचे मोड़ पर एक व्यक्ति ने गोलियां चलाईं और फिर हामिद मीर की गाड़ी का पीछा किया.

पुलिस के मुताबिक़ अभी ये बताना मुश्किल है कि हमले के पीछे किसका हाथ है और उन्होंने हामिद मीर को क्यों निशाना बनाया.

जियो न्यूज़ के इस्लामाबाद ब्योरो चीफ़ राना के अनुसार कराची में हामिद मीर पर हमले के बाद हामिद मीर ने उन्हें फ़ोन करके अपने ऊपर हुए हमले की जानकारी दी.

इससे पहले साल 2012 में भी उनकी गाड़ी में विस्फोटक रखा गया था लेकिन किसी नुक़सान के पहले ही उसे देख लिया गया और निष्क्रिय कर दिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार